Follow by Email

Monday, 30 May 2016

रविकर अस्वीकार, करे तारीफें झूठी

ठीक-ठाक कोशिश करो, बुरा कहे ना कोय।
बुरा-भला मुँह पर कहे, अगर खता कुछ होय।

अगर खता कुछ होय, करे आकलन अद्यतन।
पर मरने के बाद, व्यर्थ जीवन-मूल्यांकन।

पहुँचा कब्रिस्तान, सुने कुछ गल्प अनूठी ।
रविकर अस्वीकार, करे तारीफें झूठी ॥  


1 comment: