Follow by Email

Sunday, 3 July 2016

सत्ता री मत बैठ तू, सत्तारी हर वक्त

सत्ता री मत बैठ तू,  सत्तारी हर वक्त |
जन-गण-मन मरता दिखा, रोक बहाना रक्त |

रोक बहाना रक्त,  खोज मत नया-बहाना |
दुष्ट सजा ना पाय, शुरू कर फौज सजाना |

सत्तावन सी क्रान्ति, करे जन-मन तैयारी |
शेष बची ना भ्रान्ति, बैठ मत अब सत्तारी ||

1 comment: