Follow by Email

Thursday, 13 October 2011

घाट-घाट पर घूम, आज घाटी को माँगें ||



टांगें  टूटी  गधे  की ,  धोबी   देता   छोड़ |
बच्चे   पत्थर  मारके,   देते  माथा  फोड़ |


 


 देते माथा  फोड़,   रेंकता  खा  के  चाटा |
 मांगे जनमत आज, गधों हित धोबी-घाटा |





घाट-घाट पर घूम,  मुआँ  घाटी को माँगें |
चले चाल अब टेढ़ ,  तोड़  दे  चारों  टांगें ||


दलील और वाणी पुन्नू की प्रबल --

वाणी पुन्नू  की  प्रबल,  अन्नू  का  उपवास | 
चित्तू  का  डंडा  सबल,  दिग्गू  का  उपहास |

लोकपाल  मुद्दा  बड़ा,  जनता  तेरे  साथ |
काश्मीर का मामला, जला रहा क्यूँ  हाथ ?

कालेधन  से  है  बड़ा, माता  का  सम्मान |
वैसी भाषा  बोल मत,  जैसी  पाकिस्तान ||

झन्नाया था गाल  जब,  तू   तेरा  स्टाफ |
उस बन्दे को कूटते,  हमें  दिखे  थे साफ़ ||

सड़को पर जब आ गया, सेना का सैलाब |
तेरे  बन्दे  पिट गए,  कल  से  थे  बेताब  |

करना यह दावा नहीं,  हो  गांधी  के भक्त |
बड़ी दलीलें  तुम रखो,  उधर है  डंडा  फ़क्त ||

वैसे  दूजे  पक्ष  को,  मत  कर  नजरन्दाज |
त्रस्त बड़ी सरकार थी,  मस्त  हो रही आज ||

पहले  पीटा  फिर  पिटा,  चले   कैमरे  ठीक  |
होती  शूटिंग सड़क  पे, नियत लगे  ना  नीक ||

घूँस - युद्ध  की  नायकी,  घाटी  में  यूँ  डूब |
घूँसा जबड़े  पर  पड़ा,   देत   दलीलें   खूब ||

13 comments:

  1. सही कहा... सटीक रचना...

    ReplyDelete
  2. हा हा हा कहां से कहां पहुंचा देते हैं आप :)

    ReplyDelete
  3. महत्वपूर्ण अपडेट !शुक्रिया ब्लॉग पर दस्तक का .आज के हालात पर सटीक व्यंग्य .बधाई .

    ReplyDelete
  4. धारदार व्यंग्य ...

    ReplyDelete
  5. sundar rachna.geele kar kar ke jute maare aapne to....

    ReplyDelete
  6. आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  7. वह रविकर जी क्या बात है !! हमेशा की तरह लाजबाब रचना

    ReplyDelete
  8. शुक्रिया भाई साहब आपकी बेहतरीन रचना और ब्लॉग समर्थन के लिए .

    ReplyDelete
  9. लोकपाल मुद्दा बड़ा, जनता तेरे साथ द्य
    काश्मीर का मामला, जला रहा क्यूँ हाथ ?

    सही दृश्य दिखाते दोहे।

    ReplyDelete
  10. काफी बातें एक साथ बड़े पते के साथ बता दी हैं। अच्छा लगा।

    ReplyDelete