Follow by Email

Sunday, 16 October 2011

तुकबन्दियाँ करने लगा, होवे जरा नजरे-इनायत

 फातिमा  कुलसुम  जोहर  गोदाबरी 

सउदी  अरबिया की मलिका 

Most Beautiful Woman In THe World
क्षमा सहित, सादर  

सुन दर्द के ओ कारखाने, 
कम पड़ा क्या माल कच्चा 
आधा-अधूरा  ही बना,  
मझधार में  इक  और गच्चा ||

Image of Rusty the Boy Robot
है खुब जरुरत आँसुओं की, 
ये दिल दरकने के करीब-
अब जुल्म सारे सह सकूँगा,  
रह गया ना छोट बच्चा ||

उस रात खर्राटें भरीं थी
अखिल भारत गोष्ठी  में-
कैसे बनोगे श्रेष्ठ-शायर ?
 पूँछ  बैठे  बड़े  चच्चा ||  


  
Mirza_ghalib_t600
तुकबन्दियाँ  करने  लगा, 
होवे  जरा नजरे-इनायत-
आशुकवि  'रविकर' बने
  तू गटक मेरा प्रेम-सच्चा ||


10 comments:

  1. अच्छा भाव-प्रदर्शन करती रचना है।

    ReplyDelete
  2. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  3. जरूरी कार्यो के कारण करीब 15 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  4. Dhany hain Ravi Ji aap...Kya majedaar rachna rachi hai...Badhai swiikaren

    Neeraj

    ReplyDelete
  5. वाह ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  6. इशारों इशारों में ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete