Follow by Email

Tuesday, 12 August 2014

कह रविकर से वृद्ध, सुखी हो जीवन अपना-

अपना इक आवास हो, हो मुट्ठी में वित्त । 
स्नेह-सिक्त माहौल में, सही वात-कफ़-पित्त । 

सही वात-कफ़-पित्त, चित्त में हर्ष समाये । 
बढ़ा आत्म-विश्वास, सदा यश-आयु बढ़ाये । 

रिश्तों से उम्मीद, हमेशा थोड़ी रखना । 
कहता रविकर वृद्ध, ख्याल खुद रखिये अपना॥ 

11 comments:

  1. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  2. सब कुछ तो चाह लिया - घर ,धन ,स्वास्थ्य,पारिवारिक स्नेह, आत्मविश्वास ,यश - अब कहाँ कुछ बचा 'रखिये कम उम्मीद' के लिए !
    वाह रविकर जी, मान गये आपको !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आदरेया-
      शायद यह अधिक स्पष्ट है-
      सादर

      रिश्तों से उम्मीद, आज-कल थोड़ी रखना ।
      कह रविकर से वृद्ध, जियो खुद जीवन अपना॥

      Delete

  3. रखिये कम उम्मीद, पड़ेगा नहीं कलपना ।
    कह रविकर से वृद्ध, सुखी हो जीवन अपना॥
    शानदार पंक्तियाँ |

    ReplyDelete
  4. रिश्तों से उम्मीद, आज-कल थोड़ी रखना ।
    कह रविकर से वृद्ध, जियो खुद जीवन अपना॥
    kya baat satik hai ... aabhar kavivar !

    ReplyDelete
  5. रिश्तों से उम्मीद, आज-कल थोड़ी रखना ।
    कह रविकर से वृद्ध, जियो खुद जीवन अपना॥
    .सच कहा आज रिश्तों से ज्यादा अपने पर उम्मीद रखने में ही भलाई है ...

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत खूब। आपकी सीख सर आँखों पर।

    ReplyDelete
  7. सूक्तियाँ रविकर की जीवन सार लिए हैं .

    ReplyDelete
  8. स्वास्थ्य की कुंजी भी है खुद से साक्षात्कार भी है इन पंक्तियों में .

    ReplyDelete
  9. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    ReplyDelete