Follow by Email

Sunday, 29 June 2014

सत्ता करे सुधार, करे कुछ निर्णय हट के-

टके टके पे टकटकी, लटके झटके देख ।
मटके मँहगाई मुई, व्याकुल पंडित शेख । 

व्याकुल पंडित शेख, आज भी भारत भूखा। 
घाटे का आलेख, स्रोत्र आमद का सूखा ।  

संभावना अपार, बढ़े आगे बेखटके । 
सत्ता करे सुधार, करे कुछ निर्णय हट के ।। 

7 comments:

  1. बहुत बढ़िया । सपने देखने में रोक के लिये अभी कोई कानून नहीं बना है अच्छा है ना :)

    ReplyDelete
  2. हट के निर्णय करने का समय शायद आ गया है ... समय ही बतायगा अब ...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (01-07-2014) को ""चेहरे पर वक्त की खरोंच लिए" (चर्चा मंच 1661) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. अति प्रेरक पोस्ट। खजाना खाली करके गई है कांग्रेस ,वित्त मंत्री तो इस खौफ से चुनाव ही नहीं लड़े। अब सोनिया जी के झंडे भी उखाड़ने वाले हैं।

    ReplyDelete
  5. देश की हालत पहले से बिगड़ी पड़ी है ,प्रतीक्षा ,धैर्य ,साहस की घड़ी है ,मोदी जी के पास नहीं कोई जादू की छड़ी है ,प्रेरणादायक रचना

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना गढ़ी है रविकर जी आपने
    संभावना अपार, बढ़े आगे बेखटके ।
    सत्ता करे सुधार, करे कुछ निर्णय हट के ।। ये पक्तिया तो विशेष पसंद आयी | सम्भावनाये तो सरकार के पास काफ़िर है पर उन्हें पहचान कर निर्णय लेने की देरी है |

    ReplyDelete