Follow by Email

Friday, 20 May 2011

सीधी-साधी कवितायें, निकली इनकी सौत--

बोरे में जब गूढ़-तम,  रचनाएं  पड़ी सड़े   
झेले मायाजाल नित, माथे पर बल पड़े----
जाँच बिठाई  क़त्ल पर, निकला यही निचोड़
कवि के जुल्मो-सितम से, भाग गई रण-छोड़---
अर्थ बूझ पाया नहीं,  लागी  लगन  महान
पाठक संग मुठभेड़ में, निकली उसकी जान---
टेढ़ा-मेढा वाकया, लगा कलेजे तीर
नहीं पढ़ाकू जगत में, जो मारे सो मीर----
कवि के हाथों की रची, जग के हाथों मौत
सीधी-साधी कवितायें, निकली इनकी सौत-- 

1 comment:

  1. जालिम कवियों का सामना, दद्दा रे!

    ReplyDelete