Follow by Email

Sunday, 16 February 2014

रविकर तनु अस्वस्थ, देख जन-गण लाचारी-



 
कुण्डलियाँ
(१)
दीखे अ'ग्रेसर खड़ा, छात्रा छात्र तमाम ।
करें एकश: अनुकरण, आवश्यक व्यायाम ।
आवश्यक व्यायाम, भंगिमा किन्तु अनोखी ।
कई डुबाएं नाम, हरकतें नइखे चोखी ।
वहीँ ईंट पर बाल, लगन से रविकर सीखे ।
ऊँची भरे उड़ान, सहज अनुकर्ता दीखे ॥

(२)
ऊँचा उड़ना चाहता, छू लेना आकास ।
चाहे तारे तोड़ना, पर साधन नहिं पास ।
पर साधन नहिं पास, सामने चहरदिवारी ।
किन्तु हौसला ख़ास, नित्य करता तैयारी ।
रख ईंटो पर पैर, ताक ब्रह्माण्ड समूचा । 
अंतरिक्ष की सैर, करे यह बालक-ऊँचा ॥

(3)
वारी जाऊँ पूत पर, उत्सुक तके परेड |
किन्तु कलेजा काटता, बढ़ बदहाली ब्लेड |

बढ़ बदहाली ब्लेड, अधूरी अर अभिलाषा |
खूब खुदाया खूह, खड़ा खाके गम प्यासा |

रविकर तनु अस्वस्थ, देख जन-गण लाचारी |
बँटे अमीर गरीब, बढ़े नित चहर-दिवारी ||
अर=हठ
खूह=कूप  
नइखे = नहीं हैं 


"लगे खाने-कमाने में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 










माने शरमाने लगे, सिर्फ स्वार्थमय भोग |
शारीरिक सुख-साधते, जाने-माने लोग |

जाने-माने लोग, कराएं परहित धंधे |
उच्चकोटि के ढोंग, फँसाये कोटिक अंधे |

बन बैठे भगवान्, बनायें विविध बहाने |
तन मन धन का दान, करोड़ों लगे कमाने ||





8 comments:

  1. सुन्दर कुण्डलियाँ

    ReplyDelete
  2. ,बेहतरीन प्रस्तुति...!लाजबाब
    RECENT POST -: पिता

    ReplyDelete
  3. waah ji waah ... lajwaab hain sabhi ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर । स्वागत है बहुत दिनों के बाद पोस्ट दिखी अच्छा लगा । आशा है स्वस्थ होंगे ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (18-02-2014) को "अक्ल का बंद हुआ दरवाज़ा" (चर्चा मंच-1527) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete