Follow by Email

Thursday, 20 February 2014

डाल गए मझधार, धोय साबुन से कथरी-



खरी खरी कह हर घरी, खूब जमाया धाक |
अपना मतलब गाँठ के, किया कलेजा चाक |

किया कलेजा चाक, देश भर में अब घूमे |
दिल्ली दिखी अवाक, आप मस्ती में झूमे |

डाल गए मझधार, धोय साबुन से कथरी |
मत मतलब मतवार, महज कर रहे मसखरी || 

हमारे महानगरों में कूड़ा कचरा एक भयावह समस्या …

Suman 










चरावरी रविकर करे, हरदिन व्यर्थ प्रलाप |
कवि खातिर वरदान ही, पाठक खातिर शाप |

पाठक खातिर शा, कीजिये खातिरदारी |
कूड़ा-कचरा साफ़, नहीं फैले बीमारी |

लेकिन कई कमाँय, मात्र है एक आसरा |
पाएं नियमित आय, फेंकते हम जो कचरा-

लूलू लूला लचर लॉ, रहा लबलबा प्रांत
तिल तिल कर कातिल मरे, बचे नहीं दुर्दांत | 
लूलू लूला लचर लॉ, रहा लबलबा प्रांत |

रहा लबलबा प्रांत, हमारे मारे पी एम् |
वोट बैंक पॉलिटिक्स, करे जय ललिता सी एम् |

ढोल-ढोल में पोल, हँसे आतंकी खिल खिल |
देख पोल आसन्न, हुवे खुश तीनों कातिल ||, 


Thursday, 12 December 2013


मतदाता का स्वार्थ, किन्तु अब बड़ी त्रासदी-

लालच में जन-गण फंसे, बिजली पानी मुफ्त |
इत पंजे से त्रस्त मन, उत मंसूबे गुप्त |

उत मंसूबे गुप्त, इकट्ठा तीस फीसदी |
मतदाता का स्वार्थ, किन्तु अब बड़ी त्रासदी |

दिल्ली बिन सरकार, यही हर दिन की कच-पच | 
वायदे तो भरपूर, पूर कर रविकर लालच |

(1)
कारें चलती देश में, भर डीजल-ईमान |
अट्ठाइस गण साथ पर, नहिं व्यवहारिक ज्ञान |

नहिं व्यवहारिक ज्ञान, मन्त्र ना तंत्र तार्किक |
*स्नेहक पुर्जे बीच, नहीं ^शीतांबु हार्दिक |
*लुब्रिकेंट  ^ कूलेंट 

गया पाय लाइसेंस, एक पंजे के मारे |
तो स्टीयरिंग थाम, चला दिखला सर-कारें ||

कौआ लाय सुराज, सफल कोयल मन्सूबे-
कौआ कोयल बाज में, होड़ मची है आज |
कोयल के अंडे पले, कौआ लाय सुराज |  

कौआ लाय सुराज, सफल कोयल मन्सूबे |
हर सूबे में खेल, घोसला साला डूबे |

बाज आय नहिं बाज, आज भी इसका हौवा |
बहुमत कैसे पाय, उधर कौआता कौआ || 

4 comments:

  1. आ० बढ़िया प्रस्तुति , धन्यवाद

    information and solutions in Hindi

    ReplyDelete
  2. हरी पट्टी एक खड़ी दिख रही है
    लिखे हुऐ के ऊपर चढ़ रही है :)

    ReplyDelete
  3. या मेरे कमप्यूटर में ही ये कर रही है कृपया बतायें नहीं तो हटायें तभी कुछ पढ़ा जाये !

    ReplyDelete
    Replies
    1. पट्टी नहीं हट रही है-
      सम्बंधित शीर्षक को क्लिक करें -कुंडलियों का ब्लॉग खुल जायेगा-
      सादर

      Delete