Follow by Email

Sunday, 30 December 2012

अस्त-व्यस्त नेटवर्क, ग्राम में बहुत व्यस्त था-रविकर




 सादर नमस्ते 
विदा 2012
स्वागत है 2013 

"क्षमा"
 व्यस्त बहुत रविकर रहा, कुहरा पाला शीत ।
दो डिग्री था न्यूनतम, यू पी से भयभीत ।
  यू पी से भयभीत, भाग के झारखंड में ।
नौ डिग्री में मौज, मजे से आज ठण्ड में ।
लम्बा यह व्यवधान, कर्म में किन्तु मस्त था ।
अस्त-व्यस्त नेटवर्क, ग्राम में बहुत व्यस्त था ।।

कर्तव्य पथ 
विसराता मनुष्य ।
अधिकार पर 
हर्षाता युग ।।

 निकृष्ट जीवन 
आत्मा अशुद्ध 
भूलता यथार्थ 
अनर्गलता पुष्ट ।।

चेतो रे चश्मों 
बहाओ प्रेमनीर 
देखने को हर्षित 
नववर्ष है अधीर ।। 

 शुभकामनायें 


8 comments:

  1. आशा है आप स्वस्थ और साननेद होंगे।
    नव वर्ष की मंलकामनाएँ।

    ReplyDelete
  2. आने वाला हर पल शुभ हो ...
    सादर

    ReplyDelete
  3. प्रभावी लेखन,
    जारी रहें,
    बधाई !!

    ReplyDelete
  4. नव-वर्ष की शुभ-कामनाओं सहित ***

    ReplyDelete
  5. चिरनिद्रा में सोकर खुद,आज बन गई कहानी,
    जाते-जाते जगा गई,बेकार नही जायगी कुर्बानी,,,,

    recent post : नववर्ष की बधाई

    ReplyDelete
  6. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। नव वर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ। धन्यवाद सहित

    ReplyDelete