Follow by Email

Friday, 10 August 2012

सी एम जाते रूठ, बके चच्चा क्यूँ अल-बल-

चोरी मेहनतकश करे, पाते अफसर छूट |
करना लीडर सम नहीं, मार्च लूट सी लूट |

मार्च लूट सी लूट, पार्टी का यह सम्बल |
सी एम जाते रूठ, बके चच्चा क्यूँ अल-बल |

करते रहें प्रजेन्ट,  आय के कागज़-थ्योरी |
रविकर सौ परसेंट, करें फिर खुल्ली चोरी |

हुई कहानी सब ख़तम, दफ़न जवानी दोस्त |
हड्डी कुत्ते चाटते, सिस्टम खाया गोश्त |


सिस्टम खाया गोश्त, रोस्ट कर कर के नोचा |
बन जाता जब टोस्ट, होस्ट इक अफसर पोचा |


आया न आनंद, वही लंदफंदिया बोला |
करके फ़ाइल बंद, बिना सिग्नेचर डोला ||

"स्पोक्समैन "

सुशील
उल्लूक टाईम्स

आज साइकिल की कई,  टूट गईं इ'स्पोक्स |
थोड़ी चोरी कीजिये, नहीं निकालूं नुक्श |
नहीं निकालूं नुक्श, सफाई भी थी गड़बड़ |
मियां राम गोपाल, पाल लेता इक बड़ बड़ |
ऐसे बड़ बड़ लोग, संभाले 'गल' कातिल की |
यही मैन इ'स्पोक्स, जरुरत है सैकिल की || 

Anil Singh :yatana

 
Anil singh

गर्भवती नारी हुई, वही कुपोषण मार |
ख़त्म रसोईं कर चखे,  मात्र कौर दो-चार |


मात्र कौर दो-चार, भार दो जन का ढोती |
अपने ही आगार, आज भी डर डर सोती |


धुरी हुई कमजोर, जनम कन्या का होवे |
करके कन्या शोर, नींद में गहरी सोवे ||

कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी पर पब्लिक को परेशान करके क्‍या बतलाना चाह रहा है इस्‍कान मंदिर प्रबंधन


 सही अगरचे याद है, यही सही इस्कान |
पुरुष पुजारी को छुवे, अन्दर  के  हैवान |


अन्दर के  हैवान, ढोंग इनका है चालू |
इनके हैं आदर्श, हमारे कृष्णा कालू |


लेते उनसे सीख, भला हो जाता इनका |
लेकिन कर्फ्यू दीख, पडोसी पूरा भिनका ||

"दोहे-कर्म बनाता भाग्य को" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


दोहे गीता ज्ञान के, बढ़ी पोस्ट की शान |
व्यवहारे जो मान के, प्रगति करे इंसान ||

यह कृष्णा अति धूर्त, मूर्त राधा की रक्खे

 
कृष्णा काले क्यूँ कठिन, कलाबाजियां खाय |
गम राधा बाधा हृदय, आधा हो हो जाय |

आधा हो हो जाय, सहे मीरा दीवानी |
देती पर समझाय, गोपिका बड़ी सयानी |

यह कृष्णा अति धूर्त, मूर्त राधा की रक्खे |
देखे सगुन मुहूर्त, सुंदरी नव सौ चक्खे ||


 

7 comments:

  1. गनीमत है रोस्ट किया
    नहीं था कोई लोचा
    कच्चा गोस्त कम
    से कम नहीं नोचा !

    ReplyDelete
  2. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ

    --- शायद आपको पसंद आये ---
    1. Auto Read More हैक अब ब्लॉगर पर भी
    2. दिल है हीरे की कनी, जिस्म गुलाबों वाला
    3. तख़लीक़-ए-नज़र

    ReplyDelete
  3. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  4. आपकी पोस्ट सराहनीय है सुन्दर अभिव्यक्ति..श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ ऑनर किलिंग :सजा-ए-मौत की दरकार नहीं

    ReplyDelete
  5. आपकी पोस्ट सराहनीय है सुन्दर अभिव्यक्ति..श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ ऑनर किलिंग :सजा-ए-मौत की दरकार नहीं

    ReplyDelete
  6. लाजबाब सुंदर प्रस्तुति ,,,,

    ReplyDelete