Follow by Email

Monday, 20 August 2012

चला ढूंढने बाप, सही सा एक निठल्लू-

Manu Gupta  
मेरी बड़ी बेटी-TCS, लखनऊ में-
 बिटिया रानी है दिखी, ऐसी पहली बार ।
साड़ी में भी है भली, या कुर्ती सलवार ।
 
या कुर्ती सलवार, मुबारक हो पहरावा ।
चढ़ती सीढ़ी  एक, बजे मन सरस बधावा ।
 
कन्या के दो रोल, संभालो अपना पल्लू ।
चला ढूंढने बाप, सही सा एक निठल्लू ।।
facebook
Manu Gupta mentioned you in a comment.
Manu wrote: "Dinesh Chandra Gupta: Papa!!!! ^_^"
My Image
जीते हैं हम आजकल, टुकड़े टुकड़े टूट |
थी अखंड गुजरी सदी, मची लूट पर लूट |

मची लूट पर लूट, कूटनीतिज्ञ लूटते |
मियाँमार सीलोन, सिन्धु बंगाल टूटते |

हरा भरा संसार, हराया अपनों ने ही |
नेही था घरबार, काटते पावन देहीं ||
आज नेहरू प्‍लेस में कुछ ब्‍लॉगर और कुछ फेसबुकिए मिले। आप भी मिल लीजिए।

आग लगी आशा जगी, भगी गन्दगी यार |
हुआ मुहल्ला साफ़ अब, बहे जरा जलधार |

बहे जरा जलधार, इकठ्ठा कूड़ा कर दे |
नेहरु गांधी प्लेस, चहे तो जनपथ भर दे | 

रविकर रखता द्वेष, ठेस लगती है भारी |
हे भैया अविनाश, कहाँ की है तैयारी ??
चिढ़ चिढ़ कर लोग चिरकुट होते है
या चिढ़ा चिढ़ा कर चिरकुट बनाते हैं

Deepak Manocha's Demand दीपक मनोचा की मांग पर नया वैचारिक माल।
 
 चिरकुट बोलो गू-दड़ा, फटा-पुराना शख्स |
चिर रोगी परजीविका, फिर भी इसको बख्स |


फिर भी इसको बख्स, रश्क होता है इससे |
मिलते नैनो-नक्श, कहे रोचक यह किस्से |


रविकर दारू खोर, पार-ले जी जी विस्कुट |
बिगत जनम का ढोर, आज का बंदा चिरकुट ||

आज मैं अपने एक मित्र से बात कर रहा था कि नितीश जी नरेंद्र मोदी पर बार-बार अपना विवादास्पद बयान देते हैं, पर नरेंद्र मोदी की कभी कोई प्रतिक्रया नहीं आती. इस पर उनकी बात सुनकर मैं हैरान था, वे कह रहे थे- नितीश जी का कद अभी इतना बड़ा नहीं हुआ कि इनके वक्तव्यों पर नरेंद्र मोदी अपनी प्रतिक्रया दें. आपका क्या कहना है ?
पट नायक सी सोच है, देखें मुस्लिम वोट |
इसीलिए करते रहे, मन मोदी पर चोट |
मन मोदी पर चोट , खोट देखें न अपना |
रहे कई को पोट, तीर से देखें सपना |
करदे ईश्वर पूर, करें बातें बन लायक |
मिलें वोट भरपूर, करे न खट-पट नायक |

गठरी 
 अजय कुमार 
  इन्तजार है हार को, आ बहार इस बार |
बार बार सूखे लड़ी, होय प्यार की हार |

होय प्यार की हार, लड़ी किस्मत से नजरें |
बदकिस्मत बदहाल, गुजरता ताकूँ गजरे |

*गटपट गजगामिनी, कहो अब क्या विचार है |
चाल तेज या नई, चाल का इन्तजार है ||

*संयोग


15 comments:

  1. बिटिया को शुभकामना,रहे सदा खुशहाल ।
    बप्पा,चाचा के जियत,भल पाए ससुराल ।

    ReplyDelete
  2. शुभकामनाऎं बिटिया को !

    ये बाबाराम की फोटो
    फेसबुक में लटक रही थी
    आप यहां भी ले आये
    अब बाबा राम आराम
    करने को कहाँ जाये ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपनी फोटो देखने तो
      कम से कम आ जाते
      बाबा राम पता नहीं
      फोटो दे दे के कहाँ
      हैं अपना खो जाते !

      Delete
  3. बिटिया को बहुत बहुत शुभकामनाऎं...!

    ReplyDelete
  4. बिटिया को सुयोग्य वर मिले.....मुस्कुराती रहे सदा...
    अशेष शुभकामनाएं...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  5. इतनी प्यारी,सुयोग्य बिटिया के लिये'निठल्लू'?-नहीं,अनुरूप वर चाहिये!

    ReplyDelete
  6. बिटिया सदा सुखी रहे,अनुरूप मिले ससुराल
    हर बाप की यही कामना,जोड़ी रहे खुशहाल
    जोड़ी रहे खुशहाल,ढूढता जोड़ी दर दर
    खाली हाथ लौट,बाप जब आता घर पर
    हाय विधाता तूने,कैसा खेल दिखाया
    दहेज में बिक रही,बेटियों की काया,,,,,,,

    ReplyDelete
  7. विस्तृत फलक बड़े कैनवास पे छा रहें हैं ,रविकर जी ,मन भा रहें हैं . . कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  8. उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  9. रविकर दारू खोर, पार-ले जी जी विस्कुट |
    बिगत जनम का ढोर, आज का बंदा चिरकुट ||
    :) ha-ha..

    ReplyDelete
  10. आप की चिंता जाहिर है | बिटिया सुयोग्य ही है | शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  11. बिटिया को ढेर सारी शुभकामनाए

    ReplyDelete