Follow by Email

Wednesday, 27 April 2011

ism-prism फायर घेर सफायर,

                        (1)
परिसर  के  माहौल  को,  कैसे  करे  खराब 
मस्ती में लुढ़की पड़ी,   बोतल  देखे  ख्वाब   
बोतल  देखे  ख्वाब ,  चरस गांजा  हेरोइन,
हुक्का और सिगार, छिपकली घूमें हरदिन
हो 'रविकर' मदहोश, जिंदगी करनी बदतर
फायर  घेर  सफायर,  फैले  पूरे  परिसर !! 
                               (2)

No comments:

Post a Comment