Follow by Email

Sunday, 7 August 2011

भोग-विलासी जीवन के हित पागल पूरे

कनरसिया के कानों के भी कान-खजूरे---
मनभावन सुर-तालों को अब  बेढब घूरे ||


व्यस्त जमाने के पहलू में ऊँघे  बच्चा 
कैसे  पूरे  हों  बप्पा   के  ख़्वाब   अधूरे ||


कनकैया-कनकौवा का कर काँचा माँझा
आकाश-पुष्प की खातिर भागे भटके-झूरे  ||  


युवा मनाकर आठ पर्व  को  नौ-नौ  बारी
भूली - बिसरी  परम्पराएँ      पूरी     तूरे ||


नैतिकता के अधो-पतन ने घर बिसराया 
भोग-विलासी जीवन के हित पागल पूरे ||

15 comments:

  1. जय हो फ़्रेंडशिप डे रोस डे और पता नही कौन कौन से डे की

    ReplyDelete
  2. नैतिकता के अधो-पतन ने घर बिसराया
    भोग-विलासी जीवन के हित पागल पूरे ||
    bahut saarthak bhaav liye hui kavita.achchi lagi.

    ReplyDelete
  3. अच्छी रचना है!
    --
    मित्रता दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  4. सार्थक भावों की सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  5. व्यस्त जमाने के पहलू में ऊँघे बच्चा
    कैसे पूरे हों बप्पा के ख़्वाब अधूरे ||
    बहुत सटीक अभिव्यक्ति .मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  6. bilkul alag aur nayaapan liye hai ye andaaz....sundar likha aapne


    humara bhi hausla badhaaye:
    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. अच्छी रचना है!
    --
    मित्रता दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. व्यस्त जमाने के पहलू में ऊँघे बच्चा
    कैसे पूरे हों बप्पा के ख़्वाब अधूरे ||
    क्या बात कही है जी बहुत वाजिब

    ReplyDelete
  9. सुन्दर अंदाज रविकर जी -अलग शैली ,सार्थक , व्यंग्य ,निम्न मन को बहुत भाया..काश लोग न ऊंघें ..
    भ्रमर ५
    नैतिकता के अधो-पतन ने घर बिसराया
    भोग-विलासी जीवन के हित पागल पूरे

    ReplyDelete
  10. व्यस्त जमाने के पहलू में ऊँघे बच्चा
    कैसे पूरे हों बप्पा के ख़्वाब अधूरे ...

    दिनेश जी हकीकत लिख दी है आपने यहाँ ...

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  13. नैतिकता के अधो-पतन ने घर बिसराया
    भोग-विलासी जीवन के हित पागल पूरे

    सही कहा दिनेश जी ।

    ReplyDelete