Follow by Email

Wednesday, 17 August 2011

तेरे दर पर हुई भयंकर बड़-बटोर है |

सत्ता-सर  के  घडियालों  यह  गाँठ बाँध लो,
जन-जेब्रा   की   दु-लत्ती   में   बड़ा  जोर है |

बदन  पे  उसके  हैं  तेरे  जुल्मों  की  पट्टी -
घास-फूस  पर  जीता  वो,  तू  मांसखोर है ||

तानाशाही    से    तेरे     है     तंग  " तीसरा"
जीव-जंतु-जग-जंगल-जल पर चले जोर है |

सोच-समझ कर फैलाना अब  अपना जबड़ा
तेरे  दर   पर    हुई   भयंकर  बड़-बटोर  है |

पद-प्रहार से    सुधरेगा   या   सिधरेगा   तू
प्राणान्तक  जुल्मों  से  व्याकुल  पोर-पोर है |

11 comments:

  1. न सुधरेगा न सिधरेगा ....

    ये सत्ता का बेटा है...
    भ्रष्ट विचारों का आचार है.

    ReplyDelete
  2. जेब्रा का तो पता नहीं, कि उससे पिटेंगे कि नहीं,
    क्योंकि ये भारत में नहीं पाये जाते है,
    लेकिन अबकी बारी चुनाव में बडा मजा आयेगा?

    ReplyDelete
  3. .


    प्रिय बंधुवर दिनेश चन्द्र गुप्ता "रविकर" जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !


    पद-प्रहार से सुधरेगा या सिधरेगा तू
    वाह क्या ख़ूब !
    इस सरकार को पद-प्रहार का ट्रीटमेंट बहुत ज़रूरी हो गया है …
    जनता संगठित और सावधान हो जाए अब …

    मैंने लिखा है-

    काग़जी था शेर कल , अब भेड़िया ख़ूंख़्वार है
    मेरी ग़लती का नतीज़ा ; ये मेरी सरकार है

    पूरी रचना के लिए पधारें …

    हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  5. सार्थक व् सशक्त अभिव्यक्ति .क्रांति भाव को उद्घाटित करती रचना .आभार
    blog paheli no.1

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत ही सुन्दर
    रचा है आप ने
    क्या कहने ||

    ReplyDelete
  7. पद-प्रहार से सुधरेगा या सिधरेगा तू
    प्राणान्तक जुल्मों से व्याकुल पोर-पोर है
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति.बधाई रविकर जी

    ReplyDelete
  8. पद-प्रहार से सुधरेगा या सिधरेगा तू
    प्राणान्तक जुल्मों से व्याकुल पोर-पोर है |
    फिजा में दिनकरयही शोर है , भाई दिनकर जी ज़ोरदार वापसी .

    ReplyDelete
  9. पद-प्रहार से सुधरेगा या सिधरेगा तू ...बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete