Follow by Email

Thursday, 4 April 2013

आये बाज बजाज नहिं , राहुल की इस्पीच

आये बाज बजाज नहिं , राहुल की इस्पीच । 
बॉडी लैंग्वेज भा गई, भूले बाकी चीज । 

भूले बाकी चीज, भाजपा को ना भाये । 
मोदी पर बेवजह, बहुत राहुल झल्लाये । 

रविकर चोंच लडाय, बाज को पुन: जिताए । 
गौरैय्या का भाग्य, बाज फिर से ना आये ॥ 

12 comments:

  1. सुन्दर पंक्तियाँ !!
    आभार !!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर ...........

    ReplyDelete
  3. शानदार प्रस्तुतिकरण.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह जमकर खिंचाई-बधाई !

    ReplyDelete
  6. बेशक एक जोरदार रचना " बाज़ बाज गर आ जाये ,नहीं बाज़ वह कहलाये

    ReplyDelete
  7. उम्दा प्रस्तुति
    latest post सुहाने सपने

    ReplyDelete
  8. सार्थक अभिव्यक्ति!
    साझा करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  9. आदरणीय गुरुदेव श्री सादर प्रणाम जोरदार कुण्डलिया रची हैं आपने राहुल के इस्पीच पर हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  10. रविकर चोंच लडाय, बाज को पुन: जिताए ।
    गौरैय्या का भाग्य, बाज फिर से ना आये ॥ बहुत उम्दा,,,,

    ReplyDelete
  11. बहुत सटीक पैना व्यंग्य .

    ReplyDelete
  12. किसी को नहीं छोड़ेंगे बिना खिचाई किये वैसे जरूरी भी है बहुत बढ़िया भाई जी बधाई

    ReplyDelete