Follow by Email

Monday, 18 November 2013

देंगे भारत-रत्न, गोल्ड पर कितना लाये ?


कलम के कारीगर, शब्‍दों के बाजीगर की आज मंगलवार 19 नवम्‍बर 2013 को वैवाहिक सालगिरह है

हिन्‍दी ब्‍लॉगर 



मंगल मंगल कामना, वैवाहिक-त्यौहार |
हार गले में डालिये, करो हार-स्वीकार |

करो हार-स्वीकार, जिताओ रविकर भाभी |
चले गृहस्थी-कार, भरे नित भाभी चाभी |

स्वस्थ,सुखी परिवार, परस्पर सुदृढ़ सम्बल |
पुत्र पुत्रियां पौत्र, सर्वदा मंगल मंगल ||

शीला का दुःख देखिये, शहजादे का क्रोध-

प्यासी बहनें जा रहीं, रुकने का अनुरोध |
शीला का दुःख देखिये, शहजादे का क्रोध |

शहजादे का क्रोध, मन:स्थित समझ करीबी |
करते रहते शोध, किन्तु नहिं ख़तम गरीबी |

रविकर देखें बोय, खेत में सत्यानाशी |
बढ़िया पैदावार, बहन पर भूखी-प्यासी ||


भाषण सुनकर जाइये, पूरी करिये साध |
एक घरी आधी घरी, आधी की भी आध |

आधी की भी आध, विराजे हैं शहजादे |
करिये वाद-विवाद, किन्तु सुनिये ये वादे |

शीला कहे पुकार, जानती यद्यपि कारण |
जाने को सरकार, फर्क डाले क्या भाषण || 

ध्यानचंद को भारतरत्न क्यो?

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी 




हाकी-काकी के कहाँ, काके कितने वोट |
दद्दा चुप्पै बैठिये, गोल-पोस्ट में खोट |

गोल-पोस्ट में खोट, जाय हिटलर हड़काये |
देंगे भारत-रत्न, गोल्ड पर कितना लाये ?

रविकर अंतर-ध्यान, चन्द बुड्ढे ही बाकी |
उनके कितने वोट, युवा ना देखें हाकी ||

Major Dhyan Chand
Dhyan Chand closeup.jpg


गीत..................

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) 

शब्द-शब्द में भाव का, समावेश उत्कृष्ट |
शिल्प देखते ही बने, यह सचमुच सारिष्ट ||

डोरे डाले सुंदरी, मनभावन मुस्कान |
आलिंगन कैसे करूँ, कैसे करूँ प्रयाण |
कैसे करूँ प्रयाण, यही गठबंधन पक्का |
चल हरिनाम पुकार, छोड़ जग हक्का बक्का |
सजी हुई है सेज, पड़े हैं कपड़े कोरे |
पढ़े आज कुल पेज, जिल्द के ढीले डोरे ||

पति प्रेमी पितु-मातु, करा सकते जासूसी-

रविकर 

छोरे ताकें छोरियां, वक्त करे आगाह |
मर्यादा मत भूलना, दुनिया रखे निगाह |

दुनिया रखे निगाह, शुरू है कानाफूसी |
पति प्रेमी पितु-मातु, करा सकते जासूसी |

फिर महिला आयोग, सूत्र यह सकल बटोरे |
दृष्टि-दोष कर दूर, बिगाड़े खेल छिछोरे ||


तारा टूटे कहीं तो भगवान करे उसे बस माँ देखे

सुशील कुमार जोशी 

टूटा तारा देख कर, माता के मन-प्राण |
मांग रही हरदम यही, हो सबका कल्याण ||

खिलें इसी में कमल, आँख का पानी, कीचड़


कीचड़ कितना चिपचिपा, चिपके चिपके चक्षु |
चर्म-चक्षु से गाय भी, दीखे उन्हें तरक्षु |

दीखे जिन्हें तरक्षु, व्यर्थ का भय फैलाता |
बने धर्म निरपेक्ष, धर्म की खाता-गाता |

कर ले कीचड़ साफ़,  अन्यथा पापी-लीचड़ |
खिलें इसी में कमल, आँख का पानी, कीचड़ |
चर्म-चक्षु=स्थूल दृष्टि
तरक्षु=लकडबग्घा
कमल खिलेंगे बहुत पर, राहु-केतु हैं बंकु |
चौदह के चौपाल  की, है उम्मीद त्रिशंकु |

है उम्मीद त्रिशंकु, भानुमति खोल पिटारा |
करे रोज इफ्तार, धर्म-निरपेक्षी नारा |

ले "मकार" को साध, कुशासन फिर से देंगे |
कीचड़ तो तैयार, कमल पर कहाँ खिलेंगे  ??
*Minority
*Muthuvel-Karunanidhi 
*Mulaayam
*Maayaa
*Mamta 

6 comments:

  1. कारीगर को बहुत बहुत बधाई
    जरूर हमें भी मिलेगी कुछ मिठाई
    मनाते रहें इसी तरह सालो साल सालगिरह शादी की
    करते रहें बाजीगरी कलम की तलवार बाजी की !

    सुंदर चर्चा !
    उल्लूक का आभार !
    "तारा टूटे कहीं तो भगवान करे उसे बस माँ देखे"
    को स्थान दिया !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुखद दाम्पत्य जीवन की मंगल कामनाएं। समसामायिक कुंडलियों के लिए हार्दिक आभार रविकर जी।

      Delete
  2. बहुत सुंदर लिंक्स

    विवाह की सालगिरह मुबारक हो

    ReplyDelete
  3. देंगे भारत-रत्न, गोल्ड पर कितना लाये ?
    bahut sundar bhavna.. sundar links ..

    ReplyDelete
  4. प्यासी बहनें जा रहीं, रुकने का अनुरोध |
    शीला का दुःख देखिये, शहजादे का क्रोध |

    शहजादे का क्रोध, मन:स्थित समझ करीबी |
    करते रहते शोध, किन्तु नहिं ख़तम गरीबी |

    रविकर देखें बोय, खेत में सत्यानाशी |
    बढ़िया पैदावार, बहन पर भूखी-प्यासी ||


    भाषण सुनकर जाइये, पूरी करिये साध |
    एक घरी आधी घरी, आधी की भी आध |

    आधी की भी आध, विराजे हैं शहजादे |
    करिये वाद-विवाद, किन्तु सुनिये ये वादे |

    शीला कहे पुकार, जानती यद्यपि कारण |
    जाने को सरकार, फर्क डाले क्या भाषण ||

    दीवाने का हाल तो देखो कवि से भी बदतर दिख रहा है कोई इसे सुनने को तैयार नहीं अम्मा मंत्री प्रधान बनाने के सपने देखे जाए है।

    ReplyDelete