Follow by Email

Monday, 19 September 2011

आज्ञा अनुमति सूचना, शिशु किशोर तरुणेश

(१)
बच्चा  आज्ञा  मांग के, खेल-खेलने जाय |
गोधुली के पूर्व ही,  वापस  घर  में  आय  ||
(२)
अनुमति ले करके गया,  एक मित्र के पास |
दो घंटे की लिमिट थी, किया चार से क्रास ||
 (३)
सहमति लेकर मैच की, रहा दिवस भर गोल |
थक कर लौटा तर-बतर, भूल समय का मोल ||
(४)
स्वमति मतीरा सी बढ़ी, लम्बी लम्बी बेल |
अभिमति-दुर्मति से शुरू, छोटे-मोटे खेल ||
(५)
शुरू सूचना से किया,  करतब का निर्वाह |
तेरह को आ जाइए, फलां जगह है व्याह ||
 (६)
आज्ञा अनुमति सूचना, शिशु किशोर तरुणेश |
 सम्बन्धों में शिथिलता, दिखते  भेद  विशेष ||



11 comments:

  1. nai peedhi ke vyvhaar ko hansi hansi me khoob bayaan kiya aapne.bahut achche dohe.

    ReplyDelete
  2. जल्दी ही हमारे ब्लॉग की रचनाओं का एक संकलन प्रकाशित हो रहा है.

    आपको सादर आमंत्रण, कि आप अपनी कोई एक रचना जिसे आप प्रकाशन योग्य मानते हों हमें भेजें ताकि लोग हमारे इस प्रकाशन के द्वारा आपकी किसी एक सर्वश्रेष्ट रचना को हमेशा के लिए संजो कर रख सकें और सदैव लाभान्वित हो सकें.
    यदि संभव हो सके तो इस प्रयास मे आपका सार्थक साथ पाकर, आपके शब्दों को पुस्तिकाबद्ध रूप में देखकर, हमें प्रसन्नता होगी.

    अपनी टिपण्णी से हमारा मार्गदर्शन कीजिये.

    जन सुनवाई jansunwai@in.com

    ReplyDelete
  3. सार्थक वातावरण प्रधान काव्यात्मक प्रस्तुति .
    Tuesday, September 20, 2011
    महारोग मोटापा तेरे रूप अनेक .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. रविकर बाबू का कमाल हर बात मे करते धमाल

    ReplyDelete
  5. वाह ....बहुत खूब लिखा है

    ReplyDelete
  6. आज्ञा अनुमति सूचना, शिशु किशोर तरुणेश |
    सम्बन्धों में शिथिलता, दिखते भेद विशेष ||

    ...सच है। शिशु आज्ञा पर चलता है। किशोर अनुमती लेकर निकलता है। युवक सिर्फ सूचना देता है। वक्त, पिता-पुत्र संबंध में नित नई परिभाषा गढ़ता है। सुंदर दोहा।

    ReplyDelete
  7. रविकर जी देत.बहुत सुन्दर संदेश...

    ReplyDelete
  8. प्रिय रविकर जी ..सुन्दर सन्देश लगा कुछ समझ में आया........... लेकिन कुछ दिमाग के ऊपर से उड़ गया ...गूढ़ कहाँ तीर मारे ?

    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  9. आज्ञा मांगता है शिशु
    किशोर अनुमति लेता है
    सूचना देते हैं तरुण ||
    बस ऐसे ही कुछ ख़ास नहीं ||
    सब कुशल मंगल है ||

    ReplyDelete
  10. अनुमति ले करके गया, एक मित्र के पास |
    दो घंटे की लिमिट थी, किया चार से क्रास ||

    नए विषयों पर सुंदर दोहे।

    ReplyDelete