Follow by Email

Tuesday, 6 September 2011

लक्ष्मण रेखा Posted by संगीता स्वरुप ( गीत ) : मेरी टिप्पणी

File:Ravi Varma-Ravana Sita Jathayu.jpg
लक्ष्मण रेखा लाँघती, खतरे से अनजान |
बीस निगाहें घूरती, रावण साधु समान |

रावण साधु समान, नहीं खर-तृण से डरता |
नहीं मृत्यु का खौफ, हबस बस पूरी करता |

सीता रहो सचेत, ताक में रावण प्रतिक्षण |
खींचो खुद से रेख, रेख क्यूँ खींचे लक्ष्मण ||

इसको  भी  क्लिक  कर  दें ---बेचारा 
मुलायम सी लक्ष्मण-रेखा लांघ बैठा  

अमर दोहे

9 comments:

  1. Pak job Ads and advertisements for Karachi,Lahore,Quetta,Peshawar,Multan,Hyderabad,Rawalpindi,Islamabad and http://allpkjobz.blogspot.comall cities of Pakistan

    ReplyDelete
  2. वाह!
    बहुत बढ़िया!
    टिप्पणी में भी रचनाकारी!

    ReplyDelete
  3. वाह: बहुत सुन्दर टिप्पणी रच डाली..बधाई..

    ReplyDelete
  4. सही टिइपणीकारी है....

    ReplyDelete
  5. आपकी सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार!!

    ReplyDelete
  6. सटीक टिप्पणी के लिए आभार ... सार्थक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. दोहावली में टिपियाये रविकर जी ,सतसैया शर्माए दिनकर जी !

    राजनीति में प्रदूषण पर्व है ये पर्युषण पर्व नहीं .

    कबीरा खडा़ बाज़ार में

    ReplyDelete
  8. bilkul steek ji

    kripya mere blog par bhi aayen..
    aabhar.

    http://umeashgera.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. ये टिपण्णी भी कमाल रही ...

    ReplyDelete