Follow by Email

Wednesday, 28 September 2011

क्या चाहे नायिका ??

 नायिका उवाच-

पन-घट   पर का    घट-पना, 
परकाकर   के   खूब |
 
घरजाया  -  घोटक  -  घटक, 
डिंगल - डीतर  डूब ||
डिंगल=दूषित नीच अधम  
डीतर=पीछा करने वाला
परका=चस्का लगा 
घरजाया=घर का दास 
घोटक= घोड़ा
घटक=बिचौलिया, विवाह सम्बन्ध निश्चित कराने वाला |

6 comments:

  1. अच्छा हुआ आपने जो अर्थ भी लिख दिया !बहुत अच्छी क्षणिका !नवरात्रि की शुभकामना !

    ReplyDelete
  2. अनुप्रासिक सुन्दर भावपूर्ण सह -भावित कणिका .

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर

    मुझे एक पंक्ति याद आ रही है

    मंदिर के हिरिक हिरिक
    नाचै थें थिरिक थिरिक
    गंगा जल छिरिक छिरिक
    दर्शन को जात हैं।..

    ReplyDelete
  4. सुन्दर और रोचक

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया शब्दों में बाँधा है आपने!

    ReplyDelete
  6. शब्दों का चमत्कार, सुंदर अति अनूप.

    ReplyDelete