Follow by Email

Sunday, 12 February 2012

नेताओं ने माल, कई पीढ़ी से दाबा

 
बाबा बैठा मंच पर, लेकर बच्चे पाँच ।
कहीं साँच की आँच से, बहता भंगुर काँच ।

बहता भंगुर काँच, कष्ट सदियों से भोगा ।
करिहै कैसे रोग, नीक बाबा का योगा ।

नेताओं ने माल,  कई पीढ़ी से दाबा ।
बच्चा-बच्चा भिन्न, जानते राहुल बाबा ।।

6 comments:

  1. बहुत सही कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  2. व्यक्ति (बाबा) को तरीक़े से पहचानने की कोशिश नज़र आती है।

    ReplyDelete
  3. बाबा द्वय की हो जय
    जीते कोई हमारी पराजय

    ReplyDelete
  4. नेताओं ने माल, कई पीढ़ी से दाबा ।
    बच्चा-बच्चा भिन्न, जानते राहुल बाबा ।।
    क्या बात है रविकर जी ,कुण्डलिनी लाज़वाब है रविकर जी .बधाई .

    ReplyDelete
  5. बाबा और बाबा, सबने दाबा !

    ReplyDelete