Follow by Email

Saturday, 25 February 2012

दूजे की आसान, हंसी उड़ाना है सखे --


मेरी शर्ट सफ़ेद, दूजे की गन्दी दिखे ।
दुनिया भर के भेद, फिर भी हम सब एक हैं ।

दूजे की आसान, हंसी उड़ाना है सखे ।
गिरेबान नादान, थोडा सा तो सिर झुका ।। 


क्षमा  सहित -
है आश्रम  अ-व्यवस्थिति, अनमना --
किन्तु अंतरजाल पर चापल लगे । 

लेखनी को देख के समझा छड़ा --
पर हकीकत में कवी छाँदल लगे ।। 


  anupama's sukrity. 

जैसे शिशु को हवा में, देता पिता उछाल ।
  फिर भी मुस्काता रहे, विश्वासी शिशु बाल ।

वैसे प्रभु को सौंप के, हो जाएँ आश्वस्त ।
दिशा दशा सुधरें सकल,  हों कल मार्ग प्रशस्त ।  


सिफ़र सिफ़ारिश में जुड़ा, ज़ीरो से क्या रीस ।
हीरो आलू छीलता, घर का बन्दा बीस । 


आतंकी महफूज हैं, सामर्थ्यहीन कानून ।
खुलेआम बाजार में, दे मानवता भून  ।।

आस बेंचते पास में , मिलते दुष्ट दलाल ।
न हर्रे ना फिटकरी, उनकी गोटी लाल ।।

नेता पर मत मूतना, पूरा गया घिनाय ।
खाद और पानी मिले, दूर तलक जा छाय ।।


खबर बेखबर खब्तमय, कर खरभर उत्पन्न ।
खटक अटक लेता गटक, जन हो जाता सन्न ।।


  विचार 
 मनोदेवता ने किया, मनोनयन मनमीत |
दिखे प्रीति या रुष्टता, होय युगल की जीत |
होय युगल की जीत, परस्पर बढे भरोसा |
माता बनती मीत, संतती पाला पोषा ||
मंगलमय हो साथ, स्वास्थ्य हो सबसे आला |
आगे पच्चिस साल,  डाल चांदी की माला ||  



कर छल का एहसास पुन: , 
छलके नैनों के बाद रही ।
खाकर धोखा भूल गया, 
पर याद तुम्हारी याद रही ।।

दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक
http://dineshkidillagi.blogspot.in

6 comments:

  1. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिनेश जी,काव्यमय टिप्पणी देने के लिए आभार,..
      सराहनीय प्रस्तुति,

      NEW POST...फुहार...हुस्न की बात...

      Delete
  2. ये अंदाज़ अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  3. जैसे शिशु को हवा में, देता पिता उछाल ।
    फिर भी मुस्काता रहे, विश्वासी शिशु बाल ।

    वैसे प्रभु को सौंप के, हो जाएँ आश्वस्त ।
    दिशा दशा सुधरें सकल, हों कल मार्ग प्रशस्त ।

    ये पंक्तियाँ बहुत ही अच्छी लगी ....सटीक प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  4. लेखनी को देख के समझा छड़ा --
    पर हकीकत में कवी छाँदल लगे ।।
    शादी से पहले मुक्त छंद ,छंद बद्ध हो जाए सखे ,जल्दी कर ले ब्याह सखे .

    ReplyDelete