Follow by Email

Monday, 27 February 2012

अनुशासित अनुपम उड़ान की, अनुभूती अंतर्मन कर ले

गाँव-राँव की बात यह, आकर्षक दमदार ।
हावी कृत्रिमता हुई, लोग होंय अनुदार ।।

 लोग होंय अनुदार, गाँव की बात निराली ।
भागदौड़ के शहर, अजूबे खाली-खाली ।।

झेलें कस्बे ग्राम, मुसीबत किन्तु दांव की ।
लगे बदलने लोग, हवा अब गाँव-राँव की ।।

पारस्परिक यह लेना देना, परम्परा है प्यार की ।
प्रीत्यर्थी ये छुआ-छुआना, मर्यादित अभिसार की ।।


  Akanksha 

अनुशासित अनुपम उड़ान की, अनुभूती अंतर्मन कर ले ।
जीवन सफ़र सरल हो जाये, आसमान मुट्ठी में भर ले ।।  

लहरें नाम मिटा देती हैं, अच्छा है पत्थर पर लिखता ।
कोने में करता स्थापित, हर पल साथी सम्मुख दिखता ।।

यादों को कितना खुबसूरत, कविवर आप बना देते हो ।
पत्थर पर लिखकर क्या करना, दिल में सही सजा लेते हो ।। 
 
सहज सरल उत्तर है प्रियवर, सतत-सात्विक नेह दिखा है ।
वास कर रही पुण्यात्मा, दृग्भक्ती दृढ़-देह दिखा है ।।

"कुछ ख्वाब- कुछ मंजिले"


यादें - अमरेन्द्र शुक्ल 'अमर'


ख्वाबगाह से बाहर निकले, ख़्वाब ख्वाह हो जाते हैं ।
ख्वाहमखाह ख्यालों को खरभर, खार खेद बो जाते हैं ।। 

6 comments:

  1. दिनेश जी,...
    यह टिप्पणी नही भावनाओं के उदगार है
    आप खुशरहे,यही ब्लागजगत का प्यार है

    बहुत बढ़िया सराहनीय प्रस्तुति,....

    ReplyDelete
  2. नया व्यापार!

    पैसा कमाने के लिए? एक हज़ार -15,000 हमेशा के लिए काम से बाहर एक महीने डॉलर, और इतना
    देखने के लिए और मुफ्त के लिए रजिस्टर ..!!!! को जानते हैं और भाग लेने और कमाई
    एक साथ? सब कुछ freeforever है! और अधिक से अधिक दिलचस्प नहीं है
    thisopportunity .......
    लिंक पर क्लिक करें विस्तृत जानकारी के लिए: यहाँ क्लिक करें:
    पंजीकरण लिंक: / signup.wazzub.info LrRef = 7ad20 है
    सूचना: http://www.youtube.com/watch?v=d1hZTu6D9VY
    सूचना: www.youtube.com/watch?v=5yv4BvQv1Kk

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर भावमयी टिप्पणियां ...

    ReplyDelete
  4. bahut sunder prastuti, sabhi link behtreen...........
    padhker accha lga...........

    ReplyDelete