Follow by Email

Monday, 11 July 2011

उठकर सुबह भूमि बन्दन कर किरतन-भजन बजाता था | नित्य-क्रिया से होकर निवृत्त, योगासन अजमाता था | ---- स्नान - ध्यान से फारिग होकर, गरम कलेवा खाता था |---- ट्वेंटी - ट्वेंटी समाचार से मन बहलाने जाता था

ट्वेंटी - ट्वेंटी  समाचार --

लेकिन दर्शन-दूर है |
हरदिन का दस्तूर है --

मोहन करते माँजी-माँजी,   आर एस एस ने लाठी भांजी |
राहुल मोस्ट वांटेड बेचलर,  दिग्गी  उनके  हाँजी  हाँजी |
महा-घुटाले-बाज तिहाड़ी,  फटकारे नित चाबुक  काजी |
कातिल का महिमा-मंडन,  जीते जालिम  हारी  बाजी--

आदत से मजबूर है |
हरदिन का दस्तूर है -

बड़ी शान से अपनी करनी हारर-किलर सुनाता जाये |
सालों  बन्द कोठरी अन्दर बहिना अपनी मौत बुलाएं |
कहीं  बाप  के अनाचार  का  घड़ा    फूटने  को आये |
बेटी - नौकर - चाकर  सारे  फूटी   आँख   नहीं  भाये--

बनता कातिल क्रूर  है |
हरदिन का दस्तूर है --

भाई   भाई   काट रहा , तो  कही  भीड़  का  न्याय है |
उधर  नक्सली रेल  उडाता, इधर पुलिस असहाय है |
कालेधन  के   भूखेपन   पर  बाबा   गया  अघाय है |
लोकपाल के दल-दल पर दल जुदा-जुदा दस राय है--
 
दिल्ली लगती दूर है 
हरदिन का दस्तूर है --

बड़ी सोनिया सा चल करके  छटी-सानिया ने देखा 
हाथ  पे  उसने  अपने  पाई  तब पाकिस्तानी  रेखा |
सट्टेबाज - खिलाड़ी सबकी लाजवाब लगती एका |
बेशुमार ताकत से  हरदिन  बदल रहे  रब का लेखा --

ताकत से मगरूर है | 
हरदिन का दस्तूर है --

10 comments:

  1. रचना बहुत अच्छी है मगर कुछ शब्द मात्राओं के लिए पर्यायवाची शब्दों को माँग रहे हैं!

    ReplyDelete
  2. क्या जमाने का ख़ाका खींचा...बहुत सुन्दर...शास्त्री जी की भी बात पर ध्यान दें...छन्दबद्ध रचनाएं एक भी मात्रा की कमी-बेसी बरदास्त नहीं करतीं...बहुत-बहुत बधाई और आभार

    ReplyDelete
  3. "भाई - भाई काट रहा , तो कही भीड़ का न्याय है |
    उधर नक्सली रेल उडाता, इधर पुलिस असहाय है |"

    बहुत सुन्दर, मधुर शब्दों में जीवन की कड़वाहट का चित्रण. धन्यवाद रविकर जी.

    ReplyDelete
  4. आदत से मजबूर है
    हरदिन का दस्तूर है
    nice poem

    ReplyDelete
  5. कातिल का महिमा मंडन वह जीत रहा ,हर दिन बाज़ी ,
    मोहन बोले माँजी ,माँ जी .....
    बहुत असरदार संदर्भों को झिंझोड़ ती सी रचना .

    ReplyDelete
  6. वाह ... बहुत ही बढिया ।

    ReplyDelete
  7. वाह वाह ... क्या व्यंग और हास्य का मिश्रण है ... मज़ा आ गया साहब ...

    ReplyDelete
  8. वाह भाई रविकर जी ...
    बहुत ही मनमोहक और सामयिक व्यंग्यात्मक प्रस्तुति

    ReplyDelete