Follow by Email

Thursday, 28 July 2011

इस कोशिश पर तारीफ करें ||

नन्हे-मुन्हे  पांव से,
छोटी-छोटी नाव से |
अपने-अपने गाँव से,
शीतल बरगद छाँव से --
खेल-खेलने आये हैं, मन सबका बहलाए हैं ||

चुन्नू मुन्नू भोर से,
रेस लगाते जोर से,
व्रेवो-व्रेवो शोर से
जमके नाचे मोर से--
सबके मन को भाये हैं, खेल-खेलने आये हैं ||

लम्बी कूद लक्की का
ऊंची कूद विक्की का
जेबलिन थ्रो बाबू का
भार उठाना साबू का---
सोना तमगा लाये हैं, खेल-खेलने आये हैं ||

बड़ी तेज ये  हाकी हैं
एकादश जो बाकी है
ध्यानचंद से जादूगर
कीर्ति फैले दुनिया भर--
फिर उम्मीद जगाये हैं, खेल-खेलने आये हैं ||

मैराथन में मीलों भागे,
मुन्ना-प्रांजल सबसे आगे
बड़ी थकावट उनको लागे
किन्तु जीत की आशा जागे---
जम के जोर लगाए हैं, खेल-खेलने आये हैं ||

12 comments:

  1. बहुत ही सुंदर सरल आसानी से दिल मे उतरने वाली

    ReplyDelete
  2. शीर्षक को छोड कर, सब कुछ बेहतर लगा?

    ReplyDelete
  3. आप की तारीफ का ढंग बहुत अच्छा लगा |

    बाल-रचना की कोशिश की है ||

    आभार ||

    ReplyDelete
  4. सुन्दर...अतिसुन्दर...मनभावन

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा खेल खेला है आपने भी कविता के मैदान में।

    ReplyDelete
  6. अच्छी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है ! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर , गेय एवं मनमोहक बालकविता

    ReplyDelete
  9. भाव गेयता बाल मन की जिज्ञासा लिए फुदकती भागती कविता .

    ReplyDelete