Follow by Email

Friday, 13 July 2012

घृणित-मानसिकता गई, असम सड़क पर फ़ैल-


घृणित-मानसिकता गई,  असम सड़क पर फ़ैल ।
भीड़ भेड़ सी देखती, अपने मन का मैल ।
अपने मन का मैल, बड़ा आनंद उठाती ।
करे तभी बर्दाश्त, अन्यथा शोर मचाती ।
भेड़ों है धिक्कार, भेड़िये सबको खाये  ।
हो धरती पर भार , तुम्हीं तो नरक मचाये ।।
 बेनामी
बेनामी कुछ चिट्ठियां, वेद ज्ञान भरपूर ।
अन्सुय्या माँ की कृपा,  रायचूर अति दूर ।
रायचूर अति दूर,  देख "कर-नाटक" देवा ।
नंगे हैं त्रिदेव, कराये मातु कलेवा ।
शर्माए त्रिदेव , जान न जाँय  पत्नियाँ ।
गर कह दोगी बात, हंसी हो जाय शर्तिया ।।  


जंतर मंतर दिल्ली से 

जमी हुई संतोष हैं , जंतर मंतर आय |
अनशन पर बैठे हुवे, है जिन्दा बतलाय |
है जिन्दा बतलाय, बड़े जालिम ससुरारी |
मृत घोषित कर हड़प, रहे संपत्ति हमारी |
राहुल सुनो गुहार,  करो शादी बेटी से |
दूंगी तुम्हें दहेज़, करोड़ चौदह पेटी से || 


 टिप्पणियां ही टिप्पणियां 

सूर्पनखा की नाक का, था उनको अफ़सोस

कविता : बारिश, किताब और गुलाब

धर्मेन्द्र कुमार सिंह

 एक दूसरे का विषय , भाव जानते मित्र ।
 इसीलिए प्रोफेसरों, सही खिंचा है चित्र ।।

सावन के इस मौसम में

विचार

बारिश की सजती रहे, रंगोली हर शाम ।
धरती की शोभा बढे, कृषक कर सके काम ।।

"निविदा खुलने का समय है आया "

सुशील at "उल्लूक टाईम्स "
आज खिंचाई हो गई, पति की क्यों उल्लूक |
निविदा को कर दो विदा, भरी चूक ही चूक |
भरी चूक ही चूक, पार्टी एक अकेली |
तीन लिफ़ाफ़े डाल, छीनता सत्ता डेली |

बड़े बड़े संस्थान, खुले विद्वानों खातिर |
रहें उसी में कैद, नहीं तो होंगे शातिर ||  

5 comments:

  1. वाह ...बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  2. बारिश की सजती रहे, रंगोली हर शाम ।
    धरती की शोभा बढे, कृषक कर सके काम ।।
    वाह बढ़िया कलेवर की पोस्ट और संदर्भित कुंडलियाँ .बधाई .

    ReplyDelete
  3. aapka andaaje bayaan wakai nirala hai...sadar bahdhayee ke sath

    ReplyDelete
  4. सुशील जी कमेंट्स पर,,,,,

    निविदा को कर बिदा,समझे पति उल्लूक
    निविदा के इस खेल में, हो जायेगी चूक,,,,,,

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete