Follow by Email

Wednesday, 11 July 2012

कन्फ्यूजन अपने लिए, समलैंगिक सामान्य-

बीता जनसंख्या दिवस ( चर्चा - 938 )




नई  कलम - उभरते हस्ताक्षर 
 लेकिन उस आधुनिकता का क्या , जो इसको ही बोझा समझे ।
एकाकी काकी न बनती, माँ की झंझट में क्या उलझे?
स्वार्थ पूरिता सुख अपना ही, जब जीवन का बने उसूल -
कैसे उस जीवन की मुश्किल, कठिन समय पर भ्राता सुलझे ।
झटके सहने की ताकत भी, होना बहुत लाजिमी है ।
दोहे लगते *दोहली , गुरुवर का आभार ।
शोक मिटे इस वाटिका, आओ  बारम्बार  ।
*अशोक वृक्ष 
कन्फ्यूजन अपने लिए, समलैंगिक सामान्य |
धीरे धीरे ही सही, कई जगह पर मान्य |
कई जगह पर मान्य, एक से दोनों हमदम |
महिलाओं का जोड़, गर्भ-धारण में सक्षम |
कर खुद का एहसास, करें बच्चे का सृजन |
अगर हुवे दो मर्द, करे क्या है कन्फ्यूजन |

विज्ञान ने यह भी संभव कर दिया है वैसे तो || 


बेगाने बैगनी को, नीला भी समुदाय ।
लाल रक्त से खेलता, पीला को अपनाय ।
पीला को अपनाय, भला जीवन नारंगी ।
आसमान का रंग, हरा भगवा भी संगी ।
मेरे तेरे स्वप्न, चले जो सरपट चक्का ।
निर्मल शुद्ध सफ़ेद, सहे न भारत धक्का ।।
ये भारत है मेरे दोस्त
अच्छी बुरी - हमारी मान्यताएं 

इक अच्छा उद्देश्य है, लेखक का आभार ।
नई चेतना के लिए,  होना है तैयार ।
होना है तैयार, मिटाना है यह शंका ।
पर्यावरण अन्यथा, फूंक देगी यह लंका ।
चलो करें शुरुवात, नई पीढ़ी तो जागे ।
आदत से मजबूर, जागते नहीं अभागे ।।।

स्वास्थ्य
खाइए चाकलेट , बढ़ाइए याददाश्त 


हरी सब्जियों में होती है फोलिक एसिड की भरमार ।
पागलपन से दूर रखे यह, कमी से दिखते  हैं आसार ।
दुहराना रात्रि बेला में, किये और करणीय  काज को 
आयु बाधा से निपटेगा, ढल जाओ  इनके अनुसार ।।

चिट्ठी आंसू से भीग गई , लालटेन से तप्त हुई फिर ।
समय सड़ाता गया खाद सा, उर्वरा शक्ति तुमने पाई ।
कर गए किन्तु तुम अधमाई ।
यह कसक मौत सी रास आई ।

जो मेरा मन कहे 
रात दिन चमके ये चाँद 
फिकरे बजी की फिकर, नहीं करे यशवंत |
किस सर का सर है सखे, कौन चाँद श्रीमंत ||


देने खातिर अन्न उगाता, रक्त पसीने से सींचे है ।
खुद की बिगड़ी हुई दशा पर, होंठ स्वयं के जब भींचे है-
कैसे देगा श्राप जगत को, अपनी कठिनाई को झेले -
खुला गगन है बिन बादल का, सूखी धरती जब नीचे है । 

सोने पे सुहागा 
जानिए ब्लागिंग को 
इंटरवल के बाद लोग जब, कथा समझने आते हैं ।
एक पक्ष की बातें अक्सर, नहीं समझ वे पाते हैं ।
खलनायक नायक से केवल, पिक्चर आगे नहीं बढ़े है -
कुछ पात्र सकारण आ जाते, मुश्किल में घिर जाते हैं ।

आधा सच 
 
आइस मिलती फ्री में, चिदंबरम को रोज ।
व्हिस्की का पैसा लगे, दो हजार का भोज ।
दो हजार का भोज, गरीबी वो क्या जानें ।
आइसक्रीम का रेट, प्रेस में खूब बखाने ।

पानी बोतल अगर, गरीबी ले पंद्रह में ।
राशन कैसे आय, बताओ फिर सत्तरह में ??

9 comments:

  1. वाह: बहुत खूब..

    ReplyDelete
  2. आपकी प्रस्तुति का असर ।

    बनी है शुक्रवार की खबर ।

    उत्कृष्ट प्रस्तुति चर्चा मंच पर ।।

    आइये-

    सादर ।।

    ReplyDelete
  3. आपका निराला अंदाज़ लाजवाब लाजवाब ... शुक्रिया मुझे भी शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  4. चर्चा सार सब सेतुओं का ढाले जो कुंडलियों में रविकर कहलाए .बेहतरीन चर्चा सार .

    ReplyDelete
  5. चर्चा सार सब सेतुओं का ढाले जो कुंडलियों में रविकर कहलाए .बेहतरीन चर्चा सार .
    ज़रूर रहें आशावादी लेकिन खामख्याली में न जिएँ

    ज़रूर रहें आशावादी लेकिन खामख्याली में न जिएँ



    राम राम भाई
    खामख्याली में न रहना जनाब
    सरकारें तो आती जाती, यह किस्सा बड़ा आलमी है |
    सकारात्मक रहें हमेशा, खाम -ख्याल जालिमी है ||
    संसाधन जोखिम की कुव्वत , हो निवेश मुस्तैद दिमाग-
    झटके सहने की ताकत भी, होना बहुत लाजिमी है ।

    -दिनेश फैजाबादी उर्फ़ कुंडली माहिर .

    ReplyDelete
  6. प्रणाम शत शत कुंडली माल को .

    ReplyDelete
  7. प्रणाम शत शत कुंडली माल को .

    ReplyDelete