Follow by Email

Monday, 9 July 2012

रचना पर जो खींचते, मार कुंडली चित्र-


मंगलवारीय चर्चा --(936) खामोश दिल की सुगबुगाहट



मेरी भी धीरेन्द्र को, परम बधाई मित्र |
रचना पर जो  खींचते, मार कुंडली चित्र |
मार  कुंडली  चित्र, आज चर्चा के तेवर |
गरम जलेबी साथ, कचौड़ी  मिष्टी घेवर |
दीदी दूँ आभार , परिश्रम साफ झलकता |
एक एक कर पेज, अभी मैं चला पलटता ||

 प्रोफ़ेसर लेता गया, लम्बी लम्बी क्लास |
लेजर में भी है जमा, आये रविकर रास |
आये रविकर रास, "आस्था ग्राम-देवता" |
महत्त्वपूर्ण अभिलेख, "प्रदूषण" श्रेष्ठ "अमृता" | 
सब को पढता जाय, बड़ा जोशीला "गुंजन" |
रविकर करे सलाम, परिश्रम का भी वंदन ||



अनुराग और अभिषेक की , मनभावन आवाज है |
दीदी के सुन्दर गीतों का , यह भी तो इक राज है

भाव अनोखे स्वर लहरी भी , सरल सरस बहती जाती -
शब्दों का सु-तारतम्य है , इसीलिए सरताज है ||



जब अन्दर की बात भी, सार्वजनिक हो जाय ।
विश्वस्तों की कमी से, रानी मन अकुलाय ।
रानी मन अकुलाय, पूत तो प्यारा लागे ।
चूक निशाना जाय, देर से दादा जागे ।
रविकर की कामना, राष्ट्रपति पद की गरिमा ।
अक्षुणता बढ़ जाय, बढे भारत की महिमा ।।

अन्दर का बन्दर जबर, उछल कूद में तेज |
तोड़-फोड़ के फेंकता, जो भी रखो सहेज |


जो भी रखो सहेज, हुई सब शोक वाटिका |
खेलो पर्यावरण, सार्थक एक नाटिका |


रविकर का जब स्वार्थ, करे कुल बाग़ सफाचट |
करे अन्यथा वाद, धूप-पत्ता पर खटपट ||

नाख़ून गड़ा के  चलें, चिकनी मिटटी खूब ।
कीचड़ में फिर भी सनें, मैया जाती ऊब ।
मैया जाती ऊब , नालियाँ नहर बनाते ।
छींक-खाँस  हलकान, फिर भी बाज न आते ।
तालाब किनारे जाय, खाय भैया का झापड़ ।
 वापस आ के खाय, पकौड़ी हलुआ पापड ।। 
प्याज और प्यार
दिव्य साम्यता दिख रही, सब्ज-बाग़ सद-प्यार ।
सूक्ष्म-दर्श कर लीजिये, परतें-परत उतार ।
परतें-परत उतार, चलो क्यारी में बो लें ।
धरा जरा उर्वरा, गाँठ बण्डल का खोलें ।
प्रेम-नीर से सींच, प्याज फिर बड़ा उगेगा ।
दूर करो पतवार, बहुत ही नीक लगेगा ।।

रे-चना ; ज्वार से तू जल


इस मन्दी के दौर में, ले मंडी का भाव |
जींस ख़रीदे जा रहे, किन्तु मुझे न चाव |
किन्तु मुझे न चाव, मुकदमें तुम्हें मुबारक |
हार होय या जीत, जानिये बेहद मारक |
रविकर का संताप, नया दांतों का डाक्टर |
है क्या कहो इलाज, चने जो खाएं डटकर ||


बोल बच्चन- मनोरंजक है, देख सकते हैं

मनोज कुमार at विचार

मिल्क नंबर सिक्स गजब है, बुनी पटकथा हास्य पर ।
बोल बचन आगाज है- गोलमाल इतिहास पर ।

खलनायक कमजोर दीखता, हीरोइन शो पीस सरीखी -
रख दिमाग घर पर ही अपने, जाय देखने पिक्चर रविकर ।।


4 comments:

  1. अपनी कुंडली चित्र में मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार..

    ReplyDelete
  2. दिमाग है तभी तो रख के जाता है
    हमारी तरह हवा ना लाता है ना ले जाता है ।

    ReplyDelete
  3. बधाई के लिए बहुत२ आभार ,,,,

    ReplyDelete