Follow by Email

Wednesday, 25 September 2013

मुर्गे की इक टांग से, कंठी माला टांग-


वर्धा ब्लॉगर सम्मलेन -जो किसी ने नहीं लिखा!

noreply@blogger.com (arvind mishra) 

मुर्गे की इक टांग से, कंठी माला टांग |
उटपटांग हरकत करे, कूद फांद फर्लांग |
कूद फांद फर्लांग , बांग मुर्गा जब देता |
पंडित करते स्वांग, ॐ बोले अभिनेता |
अभिनय में उस्ताद, सोचते हैं आगे की |
अगर गले ना दाल, तब टांग चले मुर्गे की || 


क्यों बीमार है राष्ट्रीय एकता परिषद?

Randhir Singh Suman 
राजनीति जब वोट की, अपने अपने स्वार्थ |
परिषद् भी बीमार है, मोहग्रस्त ज्यों पार्थ || 


काठमांडू में भारतीय ब्‍लॉगरों का सम्‍मान : डेली न्‍यूज़ ऐक्टिविस्‍ट दिनांक 26 सितम्‍बर 2013 में प्रकाशित

नुक्‍कड़ 





भारतीय ब्लॉगर जमा, चहुँ-तरफ़ा है धूम | 
पुरस्कार की होड़ है, रविकर लेकर चूम ||



Tourist places in Indian States भारतीय राज्यों के पर्य़टक स्थल

SANDEEP PANWAR 











प्रभु के अवतार का उद्देश्य श्रीभगवानुवाच बहुनि मे व्यतीतानी ,जन्मानि तव चार्जुन , तान्यहं सर्वाणि ,न त्वं वेत्थ परंतप। (४. ६ )

Virendra Kumar Sharma 
भारत भूमि महान है, बनकर प्रभु इंसान |
आकर वे अनुभव करें, मुश्किल में ईमान ||


सियासती सुपनखा से, सिया-सती अनभिज्ञ-
सियासती सुपनखा से, सिया-सती अनभिज्ञ |
अब क्या आशा राम से, हो रहे स्खलित विज्ञ |
हो रहे स्खलित विज्ञ, बने खरदूषण साले |
घालमेल का खेल, बुराई कुल अपना ले |
भोग-विलासी होड़, हुआ जन-गण-मन आहत |
सिया-सती की लाज, बचा ना सके सियासत ||

साधू या शैतान

कालीपद प्रसाद 








शैतानों ने धर लिया, आज साधु का रूप |
साधु दुबक एकांत में, भजते रूप अनूप || 

11 comments:

  1. बढिया लिंक्स
    अखबारों में तथ्यहीन खबर छपने से अखबार की विश्वसनीयता खत्म होती है।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर लिंक संयोजन, आभार।

    ReplyDelete
  3. आपके दोहे सटीक हैं , गहन हैं रविकर जी . . .
    बधाई !!

    ReplyDelete
  4. भारतीय ब्लॉगर जमा, चहुँ-तरफ़ा है धूम |
    पुरस्कार की होड़ है, रविकर लेकर चूम ||

    पुरस्कारन की लूट है ,लूट ब्लागिये लूट ,

    कल होगा तू हूट .,कुछ तो कर ले म्यूट .

    ReplyDelete
  5. व्यंग्य विडंबन से भरा साधुन का ब्योहार ,

    साध मत कहना इन्हें ये करते ब्योपार। सुन्दर पोस्ट शुक्रिया आपकी टिपण्णी का।

    शैतानों ने धर लिया, आज साधु का रूप |
    साधु दुबक एकांत में, भजते रूप अनूप ||

    ReplyDelete
  6. कुण्डलियाँ बहुत सुन्दर और सटीक है

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    ReplyDelete