Follow by Email

Monday, 19 August 2013

होते हरदम हादसे, हरदम हाहाकार-




My ImageAuthor रजनीश के झा (Rajneesh K Jha)

 होते हरदम हादसे, हरदम हाहाकार |
भूखे खाके नहाके, जल थल नभ में मार |

जल थल नभ में मार, सैकड़ों हरदिन मरते |
मस्त रहे सरकार, सियासतदान अकड़ते |

आतंकी चुपचाप, देखते पब्लिक रोते  |
रोकें क्रिया-कलाप, हादसे खुद ही होते ||

"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव"
अंक-29

नौबत-बाजे द्वार पर, किन्तु कँटीली बाड़ |
काट फिदायीन घुस रहे, बरबस मौका ताड़ |

बरबस मौका ताड़, काट दे प्रहरी-सैनिक |
तोड़े गोले दाग, सीजफायर वो दैनिक |

केवल कड़े बयान, यहाँ बाकी नहिं कुब्बत |
कल देते गर मार, आज नहिं होती *नौबत ||

*दुर्दशा


सरेआम लें लूट, गिरी माँझा बिन गुड्डी-

गुड्डी-गुड़ी गुमान में, ऊँची भरे उड़ान |
पेंच लड़ाने लग पड़ी, दुष्फल से अन्जान |

दुष्फल से अन्जान, जान जोखिम में डाली |
आये झँझावात, काट दे माँझा-माली |

लग्गी लेकर दौड़, लगाने लगे उजड्डी |
सरेआम लें लूट, गिरी माँझा बिन गुड्डी ||

6 comments:

  1. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (20 -08-2013) के चर्चा मंच -1343 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  2. सुंदर सृजन,टिप्पणी के रूप में बेहतरीन कुंडलिया,,,

    RECENT POST : सुलझाया नही जाता.

    ReplyDelete
  3. तब क्या कहा जाये जब पोस्ट से बेहतर टिप्पणी लगे :)

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर ,रक्षा बंधन की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  5. कुण्डलिया छंद में आपने अपने दुख को पूरी करूणा के साथ साझा किया है। मार्मिक।

    ReplyDelete