Follow by Email

Saturday, 24 August 2013

विवादास्पद सुन बयाँ, जन-जन जाए चौंक -



 उल्लूक टाईम्स
छोटी मोटी जगह पर, करता खुद को बन्द |
बिना रीढ़ के जीव का, अपना ही आनन्द |
अपना ही आनन्द, चरण चुम्बन में माहिर |
भरे पड़े छल-छंद, किन्तु न होते जाहिर |
चले समय के साथ, लाल कर अपनी गोटी |
ऊँचा झंडा हाथ, बात क्या छोटी मोटी ??


रविकर  
 विवादास्पद सुन बयाँ, जन-जन जाए चौंक |
नामुराद वे आदतन, करते पूरा शौक |
करते पूरा शौक, छौंक शेखियाँ बघारें |
बात करें अटपटी, हमेशा डींगे मारें |
रखते सीमित सोच, ओढ़ते छद्म लबादा |
खोलूं इनकी पोल, करे रविकर कवि वादा |

Kulwant Happy 
 Fast Growing Hindi's Website  

कपड़े के पीछे पड़े, बिना जाँच-पड़ताल |
पड़े मुसीबत किसी पर, कोई करे सवाल |

कोई करे सवाल, हिमायत करने वालों |
व्यर्थ बाल की खाल, विषय पर नहीं निकालो |

मिले सही माहौल, रुकें ये रगड़े-लफड़े ।
देकर व्यर्थ बयान, उतारो यूँ ना कपड़े ॥

 

हमारा देश बिना बाड़ के खेत जैसा हो गया हैं !!

पूरण खण्डेलवाल 


बिना बाड़ के हो गया, अपना देश महान |
बाड़-पडोसी खा रही, नित्य खेत-मैदान |
नित्य खेत-मैदान, बाड़ उनकी यह घातक |
करते हम आराम, आदतें बड़ी विनाशक |
चेतो नेता मूढ़, जाय नित शत्रु ताड़ के |
विषय बहुत ही गूढ़, रहो मत बिना बाड़ के ||

अफवाहें अच्‍छी लगने लगी हैं : दैनिक हिंदी मिलाप 24 अगस्‍त 2013 अंक में स्‍तंभ बैठे ठाले में प्रकाशित

नुक्‍कड़  

करा वाहवाही गई, वाहियात अफवाह |
हवा बना ले मीडिया, पब्लिक किन्तु कराह |

पब्लिक किन्तु कराह, नहीं परवाह किसी को |
दाह दाह संस्कार, दिखाते रहें इसी को |

रेप हादसा मौत, नहीं न इनको अखरा |
रहा मसाला चटक, कटा बों बों कर बकरा ||

रविकर 

डालर डोरे डालता, अर्थव्यवस्था कैद |
पुन:विदेशी लूटते, फिर दलाल मुस्तैद-
हर दिन बढ़ता घाटा है |
झूठा कौआ काटा है |
होय कोयला लाल जो, बचे शर्तिया राख |
गायब होती फाइलें, और बचाते  साख -
माँ-बेटे ने डाटा है ?
झूठा कौआ काटा है |
रहा रुपैये का बिगड़, धीरे धीरे रूप |
करे ख़ुदकुशी अन्ततः, कूदे गहरे कूप |
यूँ छाता सन्नाटा है |
झूठा कौआ काटा है ||
भोलू-भोली भूलते, रहा नहीं कुछ याद । 
याददाश्त कमजोर है, टू-जी की बकवाद । 
यह भी बिरला टाटा है । 
झूठा कौआ काटा है ||
चूर गर्व मुंबई का, करे कलंकित दुष्ट । 
शर्मिंदा फिर देश है, हुवे आम जन रुष्ट । 
पौरुषता पर चाटा  है
झूठा कौआ काटा है ||

चलो मोदी को नहीं लाते..................बलवीर कुमार


yashoda agrawal 


कसके धो कर रख दिया, पूरा दिया निचोड़ |
मुद्रा हुई रसातली, भोगें नरक करोड़ |

भोगें नरक करोड़ , योजना बनी लूट की |
पाई पाई जोड़, गरीबी लगा टकटकी |

पर पाए ना लाभ, व्यवस्था देखे हँस के |
मोदी पर संताप, मचाती सत्ता कसके ||

8 comments:

  1. बिना रीढ़ के प्राणी का अपना ही आनन्द,
    माँ बहन बेच कर राज करे सानंद..
    लाजवाब कुण्डलियाँ !!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर कुंडलियों नें सूत्रों को रोचक बना दिया !
    सादर आभार !!

    ReplyDelete
  3. कुंडलियाँ रविकर द्वारा
    जब लिख दी जाती है
    सूत्रो की चाँदी बन आती है

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर कुंडलियों ..

    ReplyDelete
  5. वाह !!! बहुत सुंदर कुण्डलियाँ ,,,

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज सोमवार (26-08-2013) को सुनो गुज़ारिश बाँकेबिहारी :चर्चामंच 1349में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी कुंडलियां पढ़ने को मिलीं, धन्यवाद.

    ReplyDelete