Follow by Email

Sunday, 4 August 2013

लगा ठिकाने बाप, गई माँ जिसे बहाने-



 भैया जी शुभकामना, काम मना पर आज |
जन्म दिवस लेते मना, रविकर दे आवाज |

रविकर दे आवाज, कहीं कविता हो जाती |
मित्र मंडली साज, साँझ होती मदमाती |

दुर्मिल मदिरा गीत, सभी में दिखें सवैया |
रहो स्वस्थ सानन्द, मगन मन हरदम भैया ||


वहाँ पाक में स्वाँग, खेल में बँटता बच्चा

बच्चा बँटता इस तरह, ज्यों बच्चों का खेल |
रीयल्टी शो पाक का, आतंकी भी फेल |

आतंकी भी फेल, दुधमुहाँ नए ठिकाने |
लगा ठिकाने बाप, गई माँ जिसे बहाने | 

घर घर बच्चा माँग, यहाँ नक्सल को गच्चा |
वहाँ पाक में स्वाँग, खेल में बँटता बच्चा ||



कैसे कैसे चीप मिनिस्टर -सतीश सक्सेना
सतीश सक्सेना 

पढ़ने में हरदम प्रथम, उसको रहा गुमान |
बुड़बक सबको समझता,  हमको भी नादान |
हमको भी नादान, किया बी टेक था उसने |
बना आई यस वीर, नहीं देता था घुसने |
पलटा रविकर भाग्य, विधाता नेता हूँ हम |
आई यस करे प्रणाम, कहाँ पढ़ने में हर दम ||

मीडिया का च्युइंगम फेज

अकबर महफ़ूज़ आलम रिज़वी 
 
नारायण नारायणा, नारद मुनि का नाद |
आदि पुरुष संवाद के, भूले नहिं मर्याद |
भूले नहिं मर्याद, खबर की जहाँ जरुरत |
रत रहते दिन रात, वहाँ दें देख मुहूरत |
निहित लोक कल्याण, हमेशा दानव हारा |
अब नारा पर जोर, संभालो ढीला नारा ||
 


काजल कुमार Kajal Kumar 


धारा सत्तर तीन सौ, है विशेष अधिकार |
एक सीट निश्चित करो, रे भारत सरकार |
रे भारत सरकार, सुनो बी सीसी आई |
शामिल करो रसूल, नहीं तो बोले भाई |
होगा खेल खराब, ख़त्म हो सट्टा सारा |
क्लब पर बने दबाव, अन्यथा डॉन पधारा ||



खर्राटों की फ़िक्र क्या, सोया सारा देश |
इक आधा जो जगता, किसको दे सन्देश |
किसको दे सन्देश , जागरुक नहीं दीखते |
घर का घोडा बेंच, स्वप्न में कार सीखते |
सारे सपने ध्वस्त, ग्राम नगरों का ढर्रा |
साधुवाद हे मित्र, लिखा है बढ़िया खर्रा ||

8 comments:

  1. बढिया, अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  2. जन्म दिन मुबारक मित्रता दिवस मुबारक अरुण भैया .

    ॐ शान्ति

    ReplyDelete
  3. भैया जी शुभकामना, काम मना पर आज |
    जन्म दिवस लेते मना, रविकर दे आवाज |

    रविकर दे आवाज, कहीं कविता हो जाती |
    मित्र मंडली साज, साँझ होती मदमाती |

    दुर्मिल मदिरा गीत, सभी में दिखें सवैया |
    रहो स्वस्थ सानन्द, मगन मन हरदम भैया ||
    बढ़िया जन्मांजलि .सुन्दर मनोहर .

    ReplyDelete
  4. behatarin links..............arun ji ko janmdin mubarak.........

    ReplyDelete
  5. धन्‍यवाद एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. सभी ब्लॉगर मित्रों का बहुत खूब चिट्ठा प्रस्तुत किया हैं..अति सुंदर।।।

    ReplyDelete