Follow by Email

Wednesday, 10 July 2013

अरुण-मनीषाशीश, मिलें खुशियाँ बहुतेरी-



पुत्रीरूपी रत्न की प्राप्ति


अरुन शर्मा 'अनन्त' 

मेरी मंगल कामना, चल अब उँगली थाम | 
 कर्तव्यों का पालना, सीधा सा पैगाम |
सीधा सा पैगाम, ख्याल रख माँ बेटी का |
रहे स्वस्थ खुशहाल, सीख ले तुरत सलीका |
अरुण-मनीषाशीश, मिलें खुशियाँ बहुतेरी |
सुता यशस्वी होय, विनय सुन मैया मेरी ||
 

 किस पर श्रद्धा
Asha Saxena 

दुनिया की रंगीनियाँ, ढकती असली रंग |
दिखा रंग असली जहाँ, होती पब्लिक दंग |
होती पब्लिक दंग, नग्नता देख देख कर |
होती श्रद्धा भंग, करे क्या दीदी रविकर |
टेढ़ापन पहचान, नहीं कर पाती गुनिया |
कर जाता वह हानि, ठगी जाती है दुनिया-


तनिक सियासत से भी डरिए -

एस पी को देता उड़ा, किन्तु खून नहिं खौल
शासन शव-आसन करे, रहा असलहा तौल । । 
नक्सल को अब कहाँ पकड़िए । 
 तनिक सियासत से भी डरिए ।। 
हो जाए कुदरत खफा, मारे बीस हजार । 
राहत की चाहत लिए, हो भवसागर पार । 
लाश पास में रखकर सडिये। 
 तनिक सियासत से भी डरिए ।।

मंदिर में विस्फोट हो, करते बंद प्रदेश । 
लेना देना कुछ नहीं,  दे जनता को क्लेश ॥ 
ऐसे मरिये वैसे मरिये । 
 तनिक सियासत से भी डरिए ।।

बच्ची चच्ची दादियाँ, झेले हत्या रेप । 
नामर्दों की हरकतें, गया मर्द जब खेप ॥
धरना धरा प्रदर्शन करिए
 तनिक सियासत से भी डरिए ।।

राघवजी उफ राघवजी

वरुण के सखाजी
अस्सी में रस्सी कसी, हँसी हसारत होय |
छिपी नहीं खाँसी-ख़ुशी, रहे रोटियां पोय |


रहे रोटियां पोय, वाह जी राघव रसिया |
बुड्ढा होगा बाप, फसल खुब काटे हँसिया |


सेवक बक बकवास,  बधाये हाथों रस्सी |
अलबेला यह शौक, उमर चाहे हो अस्सी ||

जानलेवा लापरवाही के लिए जिम्मेदारी तय होनी चाहिए !


पूरण खण्डेलवाल 



जहाँ रूपिया गिर रहा, और गिराए व्यक्ति |
वहाँ कहाँ से *राज की, हो सकती अभिव्यक्ति |
हो सकती अभिव्यक्ति, शक्ति कानून दिखाए |
बहे आम का रक्त, ख़ास तो मौज मनाये |
जहाँ *राज हैं फेल, करे क्या वहाँ खूफ़िया  |
सज्जन को हो जेल,  बचे खलु फेंक रूपया ||

खोज सत्य की

संगीता स्वरुप ( गीत )  

गीत.......मेरी अनुभूतियाँ

तमसाकृत से है घिरा, निश्चय सत्य तमाम |
मार तमाचा तमतमा, सत्य ताक ले आम |
सत्य ताक ले आम, ख़ास इक बात बताई |
तम ही तो है सत्य, समझ में रविकर आई |
मनुवा सत्य निकाल,  डाल दे थोड़ा घमसा |
भरत-सत्य साकार, पार कर जाए तमसा -


5 comments:

  1. सुन्दर कुंडलियों के साथ सूत्रों का उम्दा सयोंजन !!

    ReplyDelete
  2. आपका कमेन्ट बहुत शानदार है |
    आशा

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  4. बहुत शानदार ..

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन प्रस्‍तुति ..........

    ReplyDelete