Follow by Email

Thursday, 4 July 2013

मत खोलो हे मातु, खोल में रहो सुरक्षित-



घोंघा- सी होती जाती हैं स्त्रियाँ ....


वाणी गीत
 रहो सुरक्षित खोल में, डोल रही निश्चिन्त |
खोल खोल के गर चले, दशा होय आचिन्त्य |

दशा होय आचिन्त्य, सोच टेढ़ी सामाजिक |
दिखे पुरुष वर्चस्व, घटे दुर्घटना आदिक |

नहीं बदलती सोच, आज तक रही प्रतीक्षित |
मत खोलो हे मातु, खोल में रहो सुरक्षित ||

सृजन


Brijesh Singh 


 ब्लॉग प्रसारण सारणी, सजा रहे *रणछोड़ |
साफ़ झलकता श्रम-सफल, निश्चय ही बेजोड़ | |

*कृष्ण



अनुभूति

मेरी माँ ने कहा !
बेटा मत फंसना कभी, भरे पड़े शैतान । 
तान रहे शैतान ये, बन कर के इंसान । 
बन कर के इंसान, मुखौटे तरह तरह के । 
अगर ज़रा दो ध्यान, पास में अपने रह के । 
कर परोक्ष नुकसान, दबा देते हैं *टेटा । 
माँ का था अरमान, करे क्या लेकिन बेटा ॥
पांच दोहे - लक्ष्मण लडीवाला
 open books on line

पोती पोता पोत पे, पावें पार पयोधि |
चिंता छोड़ें व्यर्थ की, रखें भरोसा बोधि ||



My ImageAuthor Kiran Maheshwari

पाये अध्यादेश से, भोजन जन गन देश |
चारो पाये तंत्र के, दिये हमें पर क्लेश |


दिये
हमें पर क्लेश, दिये टिमटिमा रहे हैं |
हुआ तैल्य नि:शेष, काल ने प्राण गहे हैं |


है आश्वासन झूठ, मूठ हल की जब आये |
पाये हल हर हाल, जियें मानव चौपाये ||



दोहा छंद
गीतिका 'वेदिका'  
   सृजन मंच ऑनलाइन

सट्टा बट्टा दे लगा, खट्टा है घुड-दौड़ |
हुई लाटरी बंद जो, ताश जुआं भी गौण |


ताश जुआं भी गौण, आज यह क्रिकेट छाया |
दर्शक भरसक दूर, खिलाड़ी दांव लगाया |


अफसर अंडर-वर्ल्ड, एक थैली का चट्टा |
नया मिला यह काम, खेल रोजाना सट्टा |  |


बिपदा बढ़ती बहु-गुणा, बा-शिंदे बेहाल-

 बिपदा बढ़ती बहु-गुणा, बा-शिंदे बेहाल |
बस-बेबस बहते बहे, बज-बंशी भूपाल |  

बज बंशी भूपाल, बहर बंदिशें सुरीली |
मनमोहन मदमस्त, मगन मीरा शर्मीली |

चले अचल छल-चाल, भयंकर नदी बिगडती  | 
चारो तरफ बवाल, हमारी बिपदा बढ़ती ||  

  
RSS Swayamsevaks in Uttarakhand.
RSS Swayamsevaks in Uttarakhand.

8 comments:

  1. कवि के आशीर्वाद, सार्थक हैं सफल होंगे !
    बधाई भाई !

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  3. वो कान में तेल डाले बैठे है !

    ReplyDelete
  4. मेरे लिंक संयोजन के प्रयास को आपका आशीष मिला यह मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/ चर्चा मंच <a href=" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. संकलन में रचना को स्थान देने का बहुत आभार !

    ReplyDelete
  7. सुंदर संकलन रविकर सर!

    ~सादर!!!

    ReplyDelete