Follow by Email

Monday, 22 July 2013

पर वे सत्य प्रकाश, पुत्र चारो न्यौछावर |



साधारण अनुभव सही, प्रस्तुति किन्तु महान |
लन्दन में भी जी रहा, अपना हिन्दुस्तान |

अपना हिन्दुस्तान, आज आसान हुआ है |
हर  देशी सामान, प्यार से हृदय छुआ है |

बना सतत संपर्क, नहीं पड़ती अब बाधा |
मिटे मुल्क का  फर्क, अगर इंटरनेट साधा ||

मेरी कहानियाँ  

 दादी सच ही कह रही, लम्बी दुनिया देख |
मम्मी भी सच ही कहे, दीदी का सच लेख |

दीदी का सच लेख, बात है महिलाओं की |
सम्मुख पीढ़ी तीन, करें क्या टोका टोकी |

बाहर जोखिम देख, छीने बहना आजादी  |
युग की टेढ़ी चाल, देख कर बोली दादी ||



मानव वेश में अक्सर फिरें, शैतान दुनिया में -सतीश सक्सेना


सतीश सक्सेना
रचना की कोशिश जारी है |
रविकर करता तैयारी है |

लिखता रहता था कुण्डलियाँ--
गजलों की अब की बारी है |

ब्लॉग जगत पर कई विधाएं-
देखो तो मारामारी है |

अगर खिंचाई कर दे कोई-
मुँह पर ही देता गारी है |

लगातार लिखता पढता हूँ-
रविकर यह क्या बीमारी है-



man ka manthan. मन का मंथन।

अनुपम बलिदान...


बलिदानी दानी दिखे, लिखे नाम इतिहास |
करे हास-परिहास जग, पर वे सत्य प्रकाश |

पर वे सत्य प्रकाश, पुत्र चारो न्यौछावर |
जय जय पन्ना धाय, कौन माँ तुझसे बेहतर |

हरिश्चन्द्र का सत्य, हजारों सत्य कहानी |
परम्परा आदर्श, नमन सादर बलिदानी-



बन जाओ न नीला समंदर.....


रश्मि शर्मा  


हो अभाव जब भाव का, अन्तर बढ़ता जाय |
हृदयस्थल में मरुस्थल, अन्तर मन अकुलाय-

लघु व्यंग्य- अरहर महादेव !

पी.सी.गोदियाल "परचेत" 

अंधड़ ! -

पूजन है मदनारि का, मद में दिखती नारि |


तू भी पूजन कर सखे, आलस शीघ्र बिसारि-



पंचायत का निर्णय.
प्रतिभा सक्सेना  
लालित्यम् 

सज्जन को हरदम खला, भागे लाज लपेट  |
पंचों का जब फैसला, पक्षपात की भेंट |

पक्षपात की भेंट, जान का सौदा होता |
काटे कौवा खेत, फसल चाहे जो बोता |

नगरी में अंधेर, मूर्ख जन बसते दुर्जन |
नहीं किसी की खैर, भाग जाते हैं सज्जन ||
 


7 comments:

  1. आद्रणीय रविकर जी नमस्ते... आप अपने नाम के ही अनुकूल ही हमे अपने काव्यमय प्रकाश से प्रकाशित कर रहे हैं...

    ReplyDelete
  2. आपकी यह रचना कल मंगलवार (23-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर और सार्थक



    ReplyDelete
  4. yahan aakar achha lga .. achhi rachnaye mili padhane ko .. jo dil se juda hai :)

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर लि‍खा है आपने..बहुत दि‍नों बाद अपनी रचना यहां देख कर खुशी हुई।

    ReplyDelete