Follow by Email

Sunday, 15 April 2012

रक्षित रहे समाज, भूमि पर आय भास्कर

"खादी का अपमान किया है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

खादी की यह दुर्दशा, गांधी का अपमान |
बर्बादी का है जमा, हर  साजो-सामान |

हर  साजो-सामान, सभी ग्रामोदय भूले |
मची हुई है होड़, आसमाँ को हम छूलें |

गांधी दर्शन मूल, किन्तु पश्चिम  के आदी |
संस्कार सब  भूल, भूलते जाते खादी ||


बने भीड़ की यह सदा, परभावी आवाज |
भेड़-भेड़ियों दुष्ट से, रक्षित रहे समाज |

रक्षित रहे समाज, भूमि पर आय भास्कर |
कर दे पावन सोच, दुष्टता -पाप जलाकर |

रविकर का विश्वास, हिफाजत करे नीड़ की |
सत्ता जाए चेत, सुने आवाज भीड़ की ||


वीणा के टूटे तारों में, झंकार जगाने निकला हूँ -सतीश सक्सेना

सतीश सक्सेना at मेरे गीत !  


शब्दों का चयन अनोखा है, भावो की सरिता बह निकली |
जब प्रियतम मुझे पुकार रहा, घर में मंदिर की कह निकली |

कुछ प्यास बुझाने के साधन, कुछ थाल में रख कर फल लाइ
इक प्रेम डोर लेकर आई, प्रिय दारुण दुःख सह सह निकली ||



दवे जी ये " राष्ट्रीय शर्म " क्या बला है

Arunesh c dave at अष्टावक्र

 टुकड़े टुकड़े में शर्म बटी, लज्जा छुपछुप कर ताक रही ।
इन महा-घुटाले-बाजों की, रँगदारों की  गुरु धाक रही ।

मेरी कथनी पर शर्म नहीं, अपनी करनी पर शर्म कहाँ-
काले-धन से नित बढ़ा करे, सुरसा जस इनकी नाक रही ।

जब मौत भूख से हो जाती, मर गए पडोसी-घर के सब
 मुंह पर आँचल धर करके शव, तब अन्नपूर्णा ताक रही ।

नक्सल मरते या मार रहे, प्यार मरे व्यभिचार रहे-
शर्म कहाँ सबको आती, मानवता केवल कांख रही ।

गर्व-राष्ट्र का तब होगा, जब अफजल सा कोई आके-
उस नगरी का ही ध्वंश करे,  जो पाक निगाहें झाँक रही ।।




मै ब्राहमण हूँ

कमल कुमार सिंह (नारद ) at नारद  
सचमुच में बाबा पिछड़े हो, अधकचरी सी वीना बाजे ।
सदियों से संकर पर होती, हर पीढ़ी यह खोजे-खाजे -

नित नया अनोखा करते हैं, बस खोजों में मशगूल रहे  -
कुछ इधर मिला कुछ उधर मिला, ना शादी ना बाजे गाजे ।

जो धर्म जाति से ऊपर हो,  कल्याण का ले ले ठेका जो-
वो ही तो ब्राह्मण होता है,  पहचान गए राजा-राजे ।।

2 comments: