Follow by Email

Sunday, 29 April 2012

अवनति का इतिहास, महाभारत है गाता-

रामायण छोड, भागवत क्यों बांचे ।


सामाजिक उत्थान का, रामायण दृष्टांत ।
श्रवण करे श्रृद्धा सहित, मन हो जावे शांत ।
मन हो जावे शांत , सदा सन्मार्ग दिखाता ।
अवनति का इतिहास, महाभारत है गाता ।
रविकर दे आभार, विषय बढ़िया प्रतिपादित ।
ढोंगी बाबा काज , करे सब गैर-समाजिक ।। 




8 comments:

  1. रामायण और भागवत नाम
    लगता है किसी को आता है
    ताज्जुब भी हो रहा है कि
    अभी तक कहीं बाँच़ा भी जाता है ?

    ReplyDelete
  2. सामाजिक उत्थान का, रामायण दृष्टांत ।
    श्रवण करे श्रृद्धा सहित, मन हो जावे शांत ।
    राम तुम्हारा चरित स्वयं ही काव्य है ,
    कोई कवि बन जाय सहज संभाव्य है .
    बढ़िया प्रस्तुति भाई साहब .
    कृपया यहाँ भी पधारें
    रविवार, 29 अप्रैल 2012
    परीक्षा से पहले तमाम रात जागकर पढने का मतलब
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    रविवार, 29 अप्रैल 2012

    महिलाओं में यौनानद शिखर की और ले जाने वाला G-spot मिला

    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    शोध की खिड़की प्रत्यारोपित अंगों का पुनर चक्रण

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/शुक्रिया .
    आरोग्य की खिड़की

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    ReplyDelete
  3. ढोंगी बाबा काज , करे सब गैर-समाजिक ।।

    ढोंगी समाज में ढोंगी बाबा ही चल सकता है :)
    जय राम जी की.

    ReplyDelete
  4. अवनति का इतिहास, महाभारत है गाता ।
    ...
    ढोंगी बाबा काज , करे सब गैर-समाजिक ।।
    yahi aaj ka sach hai..

    ReplyDelete
  5. रविकर दे आभार, विषय बढ़िया प्रतिपादित ।
    ढोंगी बाबा काज , करे सब गैर-समाजिक ।।
    रचना है रविकर जी की अति उत्कृष्ट .. (.कृपया यहाँ भी पधारें - )

    कैंसर रोगसमूह से हिफाज़त करता है स्तन पान .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_01.html

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया रविकर जी...

    ReplyDelete