Follow by Email

Tuesday, 4 September 2012

धधके अंतर आग, लुटाते लंठ खदाने-

शिक्षक दिवस की शुभकामनाएँ --अरे गुरु जी का वह डंडा !

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur)
जो मेरा मन कहे  

माता ने बंधवा दिया, इक गंडा-ताबीज |
डंडे के आगे मगर, हुई फेल तदबीज |
हुई फेल तदबीज, लुकाये गुरु के डंडे  |
पड़े पीठ पर रोज, व्यर्थ सारे हतकंडे |
रविकर जाए चेत, पाठ नित पढ़ कर आता |
अक्षरश:दे सुना, याद कर भारति माता ||

शिक्षा का स्वरुप और शिक्षक का योगदान - शिक्षक दिवस पे .

कमल कुमार सिंह (नारद )
नारद -

जार जार शुभ ज्ञान है, शिक्षा बिक बाजार |
ऊंची कोठी शान है, ऊंचा गुरु आगार |
ऊंचा गुरु आगार, उदारीकरण दिखाए |
जब विदेश में नित्य, निवेशित ज्ञान कराये |
मुद्रा से है ज्ञान, ज्ञान से बड़ी चाकरी |
रिश्तों का अवसान, बुरा परिणाम आखरी ||

जीवन शैली रोग मधुमेह २ में खानपान ,जोखिम और ....

अतिशय मोटी अक्ल में, आई मोटी बात |
पांच मर्तवा खाइए, प्राकृतिक  सौगात |
प्राकृतक सौगात, फास्ट-फूडों से बचिए |
रिस्य रिसर्चर राय, सुगढ़ काया यह रचिए |
समाधान मधुमेह, छोड़ दें आदत खोटी |
सतत आकलन देह, होय न अतिशय मोटी ||

अगले बरस के नुक्‍कड़डॉटकॉम महाशिखर सम्‍मान की घोषणा

अविनाश वाचस्पति 

पक्का रविकर दिख रहा, पुरस्कार बड़वार |
हर रचना पर कर रहा, हर संध्या तकरार |
हर संध्या तकरार, वंदना पूजा करता |
होय तुषारापात, दोष दूजे सिर धरता |
खुराफात का शेर, टहलते देता धक्का |
हूँ काबिल हर-मेर, देर क्यूँ करिए पक्का ||

कार्टून कुछ बोलता है - कोलमाल है भई सब कोलमाल है ......

पी.सी.गोदियाल "परचेत"
अंधड़ !
 
दाने दाने को दिखा, कोयलांचल मुहताज ।
दान दून दे दनादन, दमके दिल्ली राज ।
दमके दिल्ली राज, घुटे ही करें घुटाला ।
बाशिंदों पर गाज, किसी ने नहीं सँभाला ।
नक्सल भी नाराज, विषैला धुवाँ मुहाने ।
धधके अंतर आग, लुटाते लंठ खदाने ।।

मेरे होने का ...

Amrita Tanmay
Amrita Tanmay

अजब निराला ढंग है, लहर लहर लहराय |
मर्मस्पर्शी रंग है, सहलाए टकराय |
सहलाए टकराय, सदा आनंदित करती |
हुई कभी जो शांत, उदासी कैसी भरती |
लहरे सारी देह, नेह की मेह पुकारे |
अवगाहन की चाह, सुनो हे मोहन प्यारे || 


गुरु,चेला और गुरुघंटाल !

संतोष त्रिवेदी
बैसवारी baiswari


प्रश्न-काल को टाल दें, रविकर गुरु-घंटाल |
रट्टू तोते भी फंसे, पिंजरा अंतरजाल |
पिंजरा अंतरजाल, सतत सर्फिंग उपयोगी |
उभय पक्ष जब मस्त, भला कक्षा क्यूँ होगी ?
इंटरनेट पर चैट, तेज कर भेड़-चाल को  |
  जश्न-काल अल-मस्त, ख़तम कर प्रश्न-काल को  ||


कुछ रिश्‍ते ... (1)

सदा
 SADA 

रिश्तों की यह बानगी, करे प्रभावित देह |
आत्मीय लूला कटुक, पाकीजा हो नेह |
पाकीजा हो नेह, मिले बिन खर्चे कौड़ी |
जरा नहीं संदेह, करे है छाती चौड़ी |
पर रविकर दुश्वार, यार का प्यार पराया |
दुनिया लंगी मार, गिराए नश्वर काया ||

नहीं पढूंगी तुम्हारी पोस्टों को ..

ZEAL at ZEAL
आकाओं से दोस्ती,  काकाओं का नाम |
बाँकी काकी ढूँढ़ के, पहुँचाना पैगाम |
पहुँचाना पैगाम, राम का नाम पुकारो |
जाओ ब्लॉगर धाम, चरण चुम्बन कर यारो |
पायेगा पच्चास, मगर बचना घावों से |
रविकर पाए पांच, कुटटियां आकाओं से |

हाइकु - जीवन

Kailash Sharma
Kashish - My Poetry

ओस रात का दर्द है, आंसू दिल का दर्द |
गर्द भरी यह राह है, बाकी यादें सर्द |
बाकी यादें सर्द , मर्द औरत के रिश्ते |
करूँ बयानी फर्द, रहे हैं रिसते -पिसते |
गहरा घना अंधेर, देर मत करना ईश्वर |
आना जाना फेर, मुक्त कर हारा रविकर ||

लम्पट और नक्कालों से सावधान

मनोज पाण्डेय 

वाह वाह क्या बात है, नक्कालों की नाक |
लम्बी होती जा रही, काट सके तो काट |
काट सके तो काट, बड़ी इ'स्टील लगाईं |
इ'स्टोलेन पद लेख, चाहिए बड़ी सफाई |
देखी चोर जमात, निरर्थक भाव जमाते  |
निकलेगी बारात, सड़क पर दिखें पिटाते ||

द्रोण

अरुण चन्द्र रॉय at सरोकार
रमता जोगी ही करे, अब समता की बात |
सत्ता-स्वामी जानते, खुराफात संताप |
खुराफात संताप,  अंगूठा दिखा रहे अब |
एकलव्य को नाप,  द्रोण कहकहा रहे जब |
सत्ता लेती साध, साध रविकर न पाता |
पढ़ जाए इक आध, नहीं अब इन्हें सुहाता ||

11 comments:

  1. छा गए रविकर आज ,,
    कहें कोयले को कागा ,
    भाज भगौड़े काग ,
    खत्म अब तेरा काज .
    भई रविकर भाई बेहद सटीक काव्यात्मक सारांश दोनों पोस्टों का .आभार .अब पोस्ट देखें दोनों जगह शोभित हैं आपकी -कुंडली
    अतिशय मोटी अक्ल में, आई मोटी बात |
    पांच मर्तवा खाइए, प्राकृतिक सौगात |
    प्राकृतक सौगात, फास्ट-फूडों से बचिए |
    रिस्य रिसर्चर राय, सुगढ़ काया यह रचिए |
    समाधान मधुमेह, छोड़ दें आदत खोटी |
    सतत आकलन देह, होय न अतिशय मोटी ||

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया ।

    ReplyDelete
  3. शानदार प्रस्तुति के लिए शुक्रिया और आभार रविकर जी !

    ReplyDelete
  4. वाह:अच्‍छी प्रस्‍तुति ..

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत धन्यवाद सर!


    सादर

    ReplyDelete
  6. बेहद खास अंदाज में सुन्दर प्रस्तुति..ये केवल आप ही कर सकते हैं.. बधाई..

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बृहस्पतिवार (06-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!
    अध्यापकदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार कविराज , सभी लिंक पठनीय ...

    ReplyDelete
  9. वाह यहाँ भी वही है जो वहाँ है
    पता नहीं लगता रविकर कहाँ कहाँ है !

    ReplyDelete