Follow by Email

Monday, 11 March 2013

कातिल नातेदार, नहीं देगा अब इटली -







टली वापसी सिरों की, पाक-जियारत पूर । 
 मछुवारों के मौत का, अभी फैसला दूर । 

अभी फैसला दूर, मिली नहिं चॉपर फ़ाइल । 
कातिल गए स्वदेश, फंसा इक और मिसाइल । 

भेजे सुप्रिम-कोर्ट, देखिये बढ़ी बेबसी । 
कातिल नातेदार, नहीं देगा अब इटली ॥  




लीक-खींचना है भला, लीक-पीटना हेय |
बाबा का यह कूप है, इसीलिए जल पेय |


इसीलिए जल पेय, प्रदूषित चाहे जितना |
बरसे झम झम मेह, होय क्या उससे हित ना |


अपनी अपनी सोच, सोच से आँख मीच ना |
लिखे लेखनी लेख्य, अनवरत लीक खींचना ||


भाये ए सी की हवा, डेंगू मच्छर दोस्त ।
फल दल पादप काटते, काटे मछली ग़ोश्त ।

काटे मछली ग़ोश्त, बने टावर के जंगल ।
टूंगे जंकी टोस्ट, रोज जंगल में मंगल ।

खाना पीना मौज, मगन मनुवा भरमाये ।
काटे पादप रोज, हरेरी ज्यादा भाये ।।

नारा की नाराजगी, जगी आज की भोर-

 नारा की नाराजगी, जगी आज की भोर । 
यह नारा कमजोर था, नारा नारीखोर । 
नारा नारीखोर, लगा सड़कों पर नारा । 
नर नारी इक साथ, देश सारा हुंकारा। 
कर के पश्चाताप, मुख्य आरोपी मारा । 
  नेता नारेबाज, पाप से करो किनारा ॥ 

कार्टून कुछ बोलता है - एक उभरते उम्मीदवार का अंत !


पी.सी.गोदियाल "परचेत" 

कई दरिन्दे शेष है, मरते हैं मर जाँय |
मारे मारे शर्म के, कुल मारे लटकाय ||

  Rajendra Kumar 

जाला काटे हौसला, अब हिम्मत मत हार |
कर के दृढ़ संकल्प तू, ले जिंदगी सुधार ||


साफ़ सूपड़ा कर रहा, रोज मीडिया बोल-

साफ़ सूपड़ा कर रहा, रोज मीडिया बोल । 
अर्थ हारकर खोजता, शब्दकोश को खोल । 
शब्दकोश को खोल, जरा मतलब समझाओ । 
हुई कहाँ उत्पत्ति, जरा इतिहास बताओ । 
आकर्षक यह शब्द, कमाए शब्द रोकडा । 
भाव समझ कापुरुष, अन्यथा साफ़ सूपड़ा ॥

6 comments:

  1. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजित किये हैं आपने ... आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर .बेह्तरीन अभिव्यक्ति !शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  3. वाह जी वाह ... मस्त लिंक संकलन ओर परिचय ...

    ReplyDelete
  4. 1
    टली वापसी सिरों की, पाक-जियारत पूर ।
    मछुवारों के मौत का, अभी फैसला दूर ।

    अभी फैसला दूर, मिली नहिं चॉपर फ़ाइल ।
    कातिल गए स्वदेश, फंसा इक और मिसाइल ।

    भेजे सुप्रिम-कोर्ट, देखिये बढ़ी बेबसी ।
    कातिल नातेदार, नहीं देगा अब इटली ॥

    इन सियासती धंधे बाजों से अजमेर शरीफ के भाई आबेदीन ईमान वाले हैं जिन्होनें पाकी प्रधान मंत्री को जियारत क़राने से इनकार कर दिया ,और वह बैसाखियाँ खाने वाला विदेशमंत्री ४८ लोगों को जो पाकी काफिले में शामिल थे फ़ाइव कोर्स लंच देने से बाज़ न आया ,आतंकी मुल्कों को ज़िमाने की बान अब मौत के बाद ही जायेगी .

    ReplyDelete
  5. भाव पूर्ण अभिव्यक्ति |
    आशा

    ReplyDelete
  6. कार्टून को भी सम्मिलित करने के लिए आपका आभार रविकर जी

    ReplyDelete