Follow by Email

Saturday, 2 March 2013

रविकर चित्त अशांत, तोड़ नहिं पाये बन्धन-


राम वाण सा है असर, कसर अगर रह जाय |
डबल डोज करते चलें, रोगी दौड़ लगाय |


रोगी दौड़ लगाय, मिला ले अगर कराटे |
होवे काम तमाम, थूक कर रोगी चाटे |


बड़ी मानसिक व्याधि, नपुंसक परेशान सा |
चखे कसैला स्वाद, असर हो राम वाण सा ||

अज़ीज़ जौनपुरी : अज़ीज़ यूँ हीं नहीं दीवाना हुआ

Aziz Jaunpuri 

गरदन झुकती इस तरह, चेहरा ही छुप जाय |
शर्माना कैसा तिरा, ऐसे तो अकुलाय |




ऐसे तो अकुलाय, कहीं कुछ गलत किया है |
प्रेम भरा दिल कहीं, पटक कर तोड़ दिया है |



रविकर चित्त अशांत, तोड़ नहिं पाये बन्धन |
हामी ना भर पाय, झुके कैसे ना गरदन ||
 
जीना मुश्किल हो गया, बोला घपलेबाज |
पहले जैसा ना रहा, यह कांग्रेसी राज |

यह कांग्रेसी राज, नियम से करूँ घुटाला |  
 खुल जाती झट पोल, पडा इटली से पाला |

बनवाया उस रोज, आय व्यय का तख्मीना |
जीते चालीस चोर, रोज मरती मरजीना ||

बजट = आय व्यय का तख्मीना

करकश करकच करकरा, कर करतब करग्राह  । 

तरकश से पुरकश चले, डूब गया मल्लाह ।  



डूब गया मल्लाह, मरे सल्तनत मुगलिया ।  

जजिया कर फिर जिया, जियाये बजट हालिया ।



धर्म जातिगत भेद, याद आ जाते बरबस । 

जीता औरंगजेब, जनेऊ काटे करकश ।  
करकश=कड़ा      करकच=समुद्री नमक 
करकरा=गड़ने वाला
कर = टैक्स
करग्राह = कर वसूलने वाला राजा

तीन, तीन तेरह करे, मार्च पास्ट करवाय

तीन, तीन तेरह करे, मार्च पास्ट करवाय । 
धनहर-ईंधन धन हरे, धनहारी मुसकाय । 
धनहारी मुसकाय, आय व्यय का तखमीना । 
आग लगे धनधाम, चैन जनता का छीना । 
इ'स्कैम और इ' स्कीम, भाव इसमें हैं गहरे । 
धन्य धन्य सरकार, तीन, तीन तेरह करे ॥ 

धनहर=धन चुराने वाला 
धनहारी = दूसरे के धन का उत्तराधिकारी 
धनधाम=रूपया पैसा और घरबार 


डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) 

राना जी छत पर पड़े, गढ़ में बड़े वजीर |
नई नई तरकीब से, दे जन जन को पीर |

दे जन जन को पीर, नीर गंगा जहरीला |
मँहगाई *अजदहा, समूचा कुनबा लीला |

रविकर लीला गजब, मरे कुल नानी नाना |
बजट बिराना पेश, देखता रहा बिराना ||
**अजदहा=बड़ा अजगर
बिराना=पराया / मुँह चिढाना 




दंड बिना उद्दंड मनु, मकु मनु-मन एहसास |
रची गई मनुस्मृति फिर, फिरे धर्म का दास |
फिरे धर्म का दास, चले सीधा अंकुश से |
किन्तु श्रेष्ठ  विद्वान, धर्म से होते गुस्से |
टोका-टाकी नीति, नहीं उनके है भाये |
भोगवाद की  प्रीत, धर्म को व्यर्थ बताये -

तमांचे की गूंज

Saleem akhter Siddiqui  
हक बात
 माचा मचिया मंच है, बोरा धरती धूल |
महाजनों के लिए ही, बच्चे बगिया फूल |


बच्चे बगिया फूल, मूल में स्वार्थ छुपाये  |
रहा सकल हित साध, किन्तु परमार्थ कहाए |  


नन्हें मुन्हें बाल, प्यार से कहते चाचा |
इक छोटी सी भूल, लगाता चचा तमाचा ||

8 comments:

  1. राम वाण सा है असर, कसर अगर रह जाय |
    डबल डोज करते चलें, रोगी दौड़ लगाय |

    रोगी दौड़ लगाय, मिला ले अगर कराटे |
    होवे काम तमाम, थूक कर रोगी चाटे |

    बड़ी मानसिक व्याधि, नपुंसक परेशान सा |
    चखे कसैला स्वाद, असर हो राम वाण सा ||

    बढ़िया काव्यात्मक टिपण्णी लघु कथा पर .

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया लिंक्स | पढ़कर आनंद आया |


    यहाँ भी पधारें और लेखन पसंद आने पर अनुसरण करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  3. वाह...!
    बहुत सटीक टिप्पणियाँ की हैं आपने!

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन लिंक्स, आनंद दायक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. वाह!
    आपकी यह प्रविष्टि कल दिनांक 04-03-2013 को सोमवारीय चर्चा : चर्चामंच-1173 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  6. सटीक टिप्पड़ीयों से अलंकृत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब सुन्दर लाजबाब अभिव्यक्ति।।।।।।

    मेरी नई रचना
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    पृथिवी (कौन सुनेगा मेरा दर्द ) ?

    ये कैसी मोहब्बत है

    ReplyDelete