Follow by Email

Monday, 26 November 2012

चली बचाने लाज, केजरी देवर प्यारा-रविकर

"आप" का उदय और भाजपाईयो का रुदन:एक लेखा जोखा

DR. PAWAN K. MISHRA  

 मोदी को करके खफा, योगी को नाराज ।
घर से बाहर "जेठ" कर, चली बचाने लाज ।
चली बचाने लाज, केजरी देवर प्यारा ।
चूमा-चाटी नाज, बदन जब नगन उघारा ।
हुई फेल सब सोच, बिठा नहिं पाई गोदी ।
बचे हुवे हैं राड़, खिलाफत धंधा मोदी ।।

अरुंधती राय : केजरीवाल के खुलासे

मनोज पटेल 

हत्यारे फासिस्ट ठग, व्यभिचारिणी जमात |
भ्रष्टाचारी व्यवस्था, खुराफात अभिजात |
खुराफात अभिजात, भूल दंगे से आगे |
देश गर्त में जात, मरें अब सभी अभागे |
देख देख श्मशान, अनीती से नहिं मारें |
शासन करते रहे, सदा से ही हत्यारे ||

राष्ट्रवादी आज फुर्सत में बिताते-कल लड़ेंगे आपसी वो फौजदारी-
  2 1 2  2     2 1 2 2     2 1 2 2 

टिप्पणी भी अब नहीं छपती हमारी ।
छापते हम गैर की गाली-गँवारी ।

कक्ष-कागज़ मानते कोरा नहीं अब-
ख़त्म होती क्या गजल की अख्तियारी ।

राष्ट्रवादी आज फुर्सत में बिताते -
कल लड़ेंगे आपसी वो फौजदारी |

नाक पर उनके नहीं मक्खी दिखाती-
मक्खियों ने दी बदल अपनी सवारी ।

पोस्ट अच्छी आप की लगती हमें है 
झेल पाता हूँ नहीं ये नागवारी ।

ढूँढ़ लफ्जों को गजल कहना कठिन है-
चल नहीं सकती यहाँ रविकर उधारी ।।

श्रद्धांजलि........(26 नवंबर विशेष)

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) 
सादर हे हुत-आत्मा, श्रद्धांजलि के फूल ।
भारत अर्पित कर रहा, करिए इन्हें क़ुबूल ।
  करिए इन्हें क़ुबूल, भूल तुमको नहिं पायें ।
किया निछावर जान, ढाल खुद ही बन जाएँ ।
मरते मरते मार, दिए आतंकी चुनकर ।
ऐसे पुलिस जवान, नमन करते हम सादर ।। 

शिवम् मिश्रा 
 खाने को दाने नहीं, अम्मा रही भुनाय ।
दानवता माने नहीं, दुनिया को सुलगाय ।
दुनिया को सुलगाय, करे विध्वंसक धंधे ।
करते इस्तेमाल, दुष्ट धर्मान्धी कंधे । 
भेजें चटा अफीम, साधु की शान्ति मिटाने ।
भारत है तैयार, नहीं घुस, मुंह की खाने ।

होना ही चाहिए -

udaya veer singh 
 आँखें पथराती गईं, नहीं सुबह नहिं शाम |
हँसी -ख़ुशी के आ रहे,  नहीं कहीं पैगाम |
नहीं कहीं पैगाम, दाम नित्य मौत वसूले |
मिटता गया वजूद, आज तो जीवन भूले |
बुझती आशा ज्योति, दागती गर्म सलाखें |
अब आयेगा कौन, करकती रविकर आँखें |


थानेदार बदलता है

मनोज कुमार 

बरगद के नीचे कई, गई पीढ़िया बीत |
आते जाते कारवाँ, वर्षा गर्मी शीत |
वर्षा गर्मी शीत, रीत ना बदल सकी है |
चूल्हा जाया होय, आत्मा वहीँ पकी है |
मिला क़त्ल का केस, हुआ थाना फिर गदगद |
जड़-गवाह चुपचाप, आज भी ताके बरगद ||

संपादकीय - नीतीश, लालू और बिहार का विकास

haresh Kumar 

बकरे की माँ छोडती, नहीं मनाती खैर ।
लाइन से बकरे खड़े, खैर मनाते गैर ।
खैर मनाते गैर, किन्तु उनकी भी बारी ।
कातिल शातिर ढीठ, भरी इसमें मक्कारी ।
देखों इसका दांव, बने बड़का पटनायक ।
किन्तु अभी है भाव, बढ़ा जाता नालायक  ।। 


"टोपी मत उछालो" (कार्टूननिस्ट-मयंक खटीमा)

टोपी क्या मिली? 
उछालने ही लगे!


रहा भुनाता विश्व यह, बड़े बड़ों का नाम ।
आदत इसकी यूँ पड़ी , चले सड़ों का नाम ।
चले सड़ों का नाम, पिन्हाते रहते टोपी ।
 चलते गाँधी आज, हुई मकु नीति अलोपी ।
अन्ना अपने बाप, हमारा अब भी नाता ।
टोपी बेटा पहिर, नाम को चला भुनाता ।।



रावण की अयोध्या

prerna argal 

 मर्जी रावन की चले, खले देश संसार |
नारि-हरण हो राम जी, सुनिए गहन पुकार |
सुनिए गहन पुकार, दुष्ट पापी हैं छाये |
नर वानर हलकान, अयोध्या कौन बचाए |
देते रिश्ते चीर, चीर हरते खुद दर्जी |
आया राक्षस राज, चले इनकी ही मर्जी ||


ram ram bhai
गंदे हाथों को रगड़, ले साबुन या राख |
सर्वव्याप्त जीवाणु हैं, सेहत करते खाख |
सेहत करते खाख, कीजिये लाख सुरक्षा |
हवा धूल जल वस्तु, भरे घर दफ्तर कक्षा |
छोड़ फिरंगीपना, भला मानुष बन बन्दे |
पॉक्स फ्लू ज्वर एड्स, तपेदिक हैजा गंदे ||

बस मूक हूँ .............पीड़ा का दिग्दर्शन करके

वन्दना 


दर्दनाक घटना घटी, मेरा पास पड़ोस ।
दुष्टों की हरकत लटी, था *धैया में रोष ।
था *धैया में रोष, कोसते हम दुष्कर्मी ।
जेल प्रशासन ढीठ, दिखाया बेहद नरमी ।
उठे मदद को हाथ, पीडिता की खातिर अब ।
अपराधी को सजा, मिलेगी ना जाने कब ।।
*धैया ग्राम हमारे कालेज के बगल में ही है जहाँ यह घटना हुई-

9 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    अभी तो तीन रंगीन पट्टियाँ खाली है रविकर जी!
    कुछ और टिप्पणियों से-
    जल्दी से इन्हें भी सँवार दीजिए!

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया रविकर जी!

    ReplyDelete
  3. bahut bahut dhanyawaad ravikarji meri prastuti ko shamil karane ke liye.aur usko sawanr kar is tarah pesh karane ke liye .aabhaar.

    ReplyDelete
  4. दोहे है बडे धासू
    करेजे मे लगे फासू

    ReplyDelete
  5. आज का दिन किसको टिपियाकर शुरू कर रहे हो!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स ... आभार आपका

    ReplyDelete
  7. सभी शैर वजनी हैं भर्ती का कोई नहीं है .बढ़िया गजल .अंदाज़े गजल .कहतें हैं कि रविकर है अंदाज़े बयाँ और ...

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी लिंक्स दी हैं |
    आशा

    ReplyDelete