Follow by Email

Sunday, 4 November 2012

जुड़वाँ बच्चे एक से, शिक्षा दीक्षा काज-




उसकी दूरी का ये अहसास खलता बहुत है

Reena Maurya 

 सहमा सहमा दिल रहे,  मचले मन बइमान ।
दुसह परिस्थिति में फंसा, यह अदना इंसान ।
यह अदना इंसान, नहीं हिम्मत कर पाता ।
गर उद्यम कर जाय, तोड़ कर तारे लाता ।
बहना करो उपाय, नहीं अपना मन भरमा ।
कर ले तू सद्कर्म, रहे नहिं दिल यह सहमा ।।

आवागमन इनका

Asha Saxena 
 Akanksha  

आहें पड़ी बाजार में, तरह तरह की श्वाँस ।
अक्सर यह सामान्य हैं, कभी कभी अति ख़ास ।
कभी कभी अति ख़ास, भरें उच्छवासें आशिक ।
होती अति गतिमान, अगर दौरा आपातिक ।
वेग पलायन पाय, पकड़ नहिं पाए बाहें ।
श्वाँस उखड ही जाय, कराहें बचती आहें ।।

Pallavi saxena 
 निर्भर है सब सोच पर, पढ़ी कथा इक आज ।
जुड़वाँ बच्चे एक से, शिक्षा दीक्षा काज ।
शिक्षा दीक्षा काज, एक है किन्तु पियक्कड़ ।
दूजा सात्विक सोच, नहीं बन पाता फक्कड़ ।
  कारण लेता पूछ, बता देते यूँ रविकर ।
फादर दारुबाज, हमेशा पीते भर भर ।।

थोड़ी बात करें ज़िन्दगी की!

मनोज कुमार  
स्वर्ण अशरफ़ी सा रखो, रिश्ते हृदय संजोय । 
 हृदय-तंतु संवेदना, कहीं जाय ना खोय ।
कहीं जाय ना खोय, गगन में पंख पसारो ।
उड़ उड़ ऊपर जाय, धरा को किन्तु निहारो ।
 रिश्ते सभी निभाय, रहें नहिं केवल हरफ़ी 
 कहीं जाय ना खोय, हमारी स्वर्ण अशरफ़ी ।।

शब्द रे शब्द, तेरा अर्थ कैसा

mahendra verma 
शब्द अलग से दीखते, रहते अगर स्वतंत्र ।
यही होंय लयबद्ध जब, बन जाते हैं मन्त्र ।
 बन जाते हैं मन्त्र , काल सन्दर्भ मनस्थिति ।
विश्लेषक की बुद्धि, अगर विपरीत परिस्थिति ।
होवे अर्थ अनर्थ, शान्ति मिट जाए जग से ।
कोलाहल ही होय, सुने नहिं शब्द अलग से ।।

5 comments:




  1. उसकी दूरी का ये अहसास खलता बहुत है
    Reena Maurya
    मेरा मन पंछी सा


    सहमा सहमा दिल रहे, मचले मन बइमान ।
    दुसह परिस्थिति में फंसा, यह अदना इंसान ।
    यह अदना इंसान, नहीं हिम्मत कर पाता ।
    गर उद्यम कर जाय, तोड़ कर तारे लाता ।
    बहना करो उपाय, नहीं अपना मन भरमा ।
    कर ले तू सद्कर्म, रहे नहिं दिल यह सहमा ।।

    भावनाओं का उच्छ्वास उड़ेल दिया है रचना टिपण्णी में आपने .बधाई .

    ReplyDelete
  2. रोज़ करके जातें हैं यहाँ टिप्पणियाँ ,

    मेट जातीं हैं हवाएं .

    बचके रहना खापियों की नजर से ,

    इसकी उसकी गुफ़्त -गु से .


    उसकी दूरी का ये अहसास खलता बहुत है
    Reena Maurya
    मेरा मन पंछी सा

    ReplyDelete
  3. बढिया लिंक्स
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. वाह...!
    एक पंथ दो काज!
    टिप्पणी की टिप्पणी और साहित्य का साहित्य!

    ReplyDelete
  5. अच्छी लिंक्स प्रतिउत्तर के साथ बधाई |
    मेरी लिंक शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete