Follow by Email

Friday, 30 November 2012

बदलो गन्दी प्रथा, जरुरी है परिवर्तन -



मुझे पागल ही बने रहने दो ( लघु कथा )

उपासना सियाग 

पागलपन ही था तभी, रही युगों से जाग ।
भूली अपने आप को, भाया भला सुहाग ।
भाया भला सुहाग, हमेशा चिंता कुल की ।
पड़ी अगर बीमार, समझ के हलकी फुलकी । 
दफ्तर चलते बने,  जाय विद्यालय बचपन ।
अब पचपन की उम्र,  चढ़ा पूरा पागलपन ।। 

डायरेक्ट कैश ट्रांसफर (कंडीशन एप्लाय)


 अगर हाथ के साथ है, है पैसा तब साथ ।
यही कार्ड आधार है, सीधा सच्चा पाथ ।

मेरी रत्ना को ऐसे तेवर दे

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) 

सुन्दर-शारद-वन्दना, मन का सुन्दर भाव ।
ढाई आखर से हुआ, रविकर हृदय अघाव ।
रविकर हृदय अघाव, पाव रत्ना की झिड़की ।
मिले सूर को नयन, भक्ति की खोले खिड़की ।
कथ्य-शिल्प समभाव, गेयता निर्मल अंतर ।
 मीरा तुलसी सूर, कबीरा गूँथे सुन्दर ।।
 
Bitter talk , But real talk
परिवर्तन है कुदरती,  बदला देश समाज ।
बदल सकी नहिं कु-प्रथा,  अब तो जाओ बाज ।
 अब तो जाओ बाज, नहीं शोषण कर सकते ।
लिए आस्था नाम, पाप सदियों से ढकते ।
दो इनको अधिकार, जियें ये अपना जीवन ।
बदलो गन्दी प्रथा, जरुरी है परिवर्तन ।

अहं पुरुष का तोड़, आज की सीधी धारा -


सोना सोना बबकना, पेपर टिसू मरोड़ । 
 बना नाम आदर्श अब, अहं पुरुष का तोड़ ।

अहं पुरुष का तोड़, आज की सीधी धारा ।
भजते भक्त करोड़, भिगोकर कैसा मारा ।

हैडन कर हर भजन, भरो परसाद भगोना ।
पेपर टिसू अनेक, मांगते मंहगा सोना ।।
 समयचक्र 

रोजी लगी लताड़ने, कर सौन्दर्य बयान ।
कंटक को खल ही गई, बोला बात सयान ।
बोला बात सयान, तुम्हारी रक्षा करता ।
माना सुन्दर रूप, सकल जग तुम पर मरता ।
किन्तु भरे हैं दुष्ट, विकल लोलुप मनमौजी ।
हमीं भगाएं दूर, तभी बच पाती रोजी ।।

आधा तीतर आधा बटेर

Asha Saxena 

पहले था तीतर-मना, दौड़ा-भागा ढेर |
बड़ी बटोरी डिग्रियां, बनता किन्तु बटेर |
बनता किन्तु बटेर, लड़ाकू मुर्गा बेहतर |
दंगल में उस्ताद, भिडाए सम्मुख रविकर |
चतुर चलाये चोंच, मार नहले पे दहले |
करे नहीं संकोच, गालियाँ बकता पहले ||

6 comments:

  1. बेहतरीन सर मनभावक रचनायें

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स एवं प्रस्‍तुति

    आभार सहित

    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया सार्थक लिनक्स
    साभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    दो दिनों से नेट नहीं चल रहा था। इसलिए कहीं कमेंट करने भी नहीं जा सका। आज नेट की स्पीड ठीक आ गई और रविवार के लिए चर्चा भी शैड्यूल हो गई।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (2-12-2012) के चर्चा मंच-1060 (प्रथा की व्यथा) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete