Follow by Email

Wednesday, 16 May 2012

लाश रहे दफ़नाय, काट के बोटी-बोटी-

माँ के दूध का कर्ज़

Maheshwari kaneri at अभिव्यंजना  

तीर्थ-यात्रा का बना, मनभावन प्रोग्राम |
दादी सुमिरन में रमी,  जय राधे घनश्याम |

जय राधे घनश्याम, चले मथुरा से काशी |
दादी गई भुलाय, बाल-मन परम उदासी |

पढ़ी दुर्दशा आज, भजन से मिलती रोटी |
लाश रहे दफ़नाय, काट के बोटी-बोटी ||


मरणोपरांत

Mridula Harshvardhan at Naaz

मात्र कल्पना से सिहर, जाती भावुक देह |
अब मसान की आग भी, जला सके ना नेह |


जला सके ना नेह, गेह अब खाली खाली |
तनिक नहीं संदेह, मोक्ष रविकर ने पाली |


लेकिन एक सवाल, तुम्हारा मुझको ठगना |
कैसे जाते छोड़, किया क्या कभी कल्पना ?? 


बदले ज़माने देखो - कविता



जुबाँ काटे गला काटे, कलेजा काट कर फेंके |
जले श्मशान में काँटा, वहां भी हाथ वो सेंके ||

रही थी दोस्ती उनसे, गुजारे थे  हंसीं-लम्हे
उन्हें हरदम बुरा लगता, वही जो रास्ता छेंके ||

कभी निर्द्वंद घूमें वे, खुला था आसमां सर पर
धरा पर पैर न पड़ते, मिले आखिर छुरा लेके ||


मुहब्बत को सितम समझे, जरा गंतव्य जो पूंछा-
 गंवारा यह नहीं उनको, गए मुक्ती मुझे देके ।।

10 comments:

  1. दोनों गहन, मर्मस्पर्शी रचनाओं पर आपकी सटीक टिप्पणी.....
    शुक्रिया रविकर जी.

    ReplyDelete
  2. मार्मिक प्रसंग कारुणिक टिपण्णी .

    ReplyDelete
  3. very appealing counter comments.

    ReplyDelete
  4. रविकर जी की टिप्पणी से निखर जाती है
    श्रंगार कर के जैसे ब्यूटी पार्लर से आती है।

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया, रविकर जी कि टिप्पड़ी रविकर जी कविताओ के समानुपात होती है ...

    ReplyDelete
  6. रचना पढ़कर तो मजा आता ही है परन्तु रविकर जी की टिपण्णी से उसमे चार चाँद लग जाते हैं तीनो टिपण्णी (कुंडलियाँ ,ग़ज़ल )बेहतरीन हैं

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर.. मेरी रचना को मान दिया आभार रविकर जी..

    ReplyDelete
  8. आपकी पोस्ट 17/5/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 882:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete