Follow by Email

Tuesday, 2 October 2012

अपना अपना ठूठ, अहम् है दिल दिमाग में-




अन्ना की टोपी उछाल रहे अरविंद !

महेन्द्र श्रीवास्तव 

दिल-दिमाग में लोक-हित, राष्ट्रधर्म उत्थान ।
ईमानदार बढ़ते गए, घटते अब बेईमान ।
घटते अब बेईमान, बुराई दूर करेंगे ।
सर्वोपरि है देश, गरीबी कष्ट हरेंगे ।
लेकिन सज्जन ढेर, जमा सब एक बाग़ में ।
अपना अपना ठूठ, अहम्  है दिल दिमाग में ।।

सच्चे में विश्वास की, दिखती कमी अपार ।
जलें तभी तो चार में, पूरे चूल्हे चार ।
पूरे चूल्हे चार, पार्टी बना मना लें ।
मिल झूठे हरबार,  नई सरकार बना लें ।
अन्ना बाबा संत,  इकट्ठा होंय अगरचे ।
होय देश खुशहाल, बोलबाला रे सच्चे । 

ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .

Virendra Kumar Sharma  

राजनीति में आ गए, पद मद में जब चूर |
निश्चय कटु-आलोचना, पद प्रहार भरपूर |
पद प्रहार भरपूर, बहू भी सास बनेगी |
देवर का कुल दूर, अकेली आस बनेगी |
पूजे कोई रोज, मगर शिक्षा न देवे |
सत्ता में सामर्थ्य, देश की नैया खेवे ||

तर्पण श्रद्धा का ...

सदा 
 SADA  


बेटी की शादी हुई, बेटा भी परदेश |
जब तक रहते पास में, माने हर आदेश |
माने हर आदेश, परोसे भोजन पानी |
बढती जाए आयु, चिंत-रेखा पेशानी |
शिथिल बदन हो जाय, खाट पर काया लेटी |
पानी रही पिलाय, हमारी प्यारी बेटी ||

कन्या के प्रति पाप में, जो जो भागीदार -

कन्या के प्रति पाप में, जो जो भागीदार ।
रखे अकेली ख्याल जब, कैसे दे आभार ।  
कैसे दे आभार, किचेन में हाथ बटाई ।
ढो गोदी सम-आयु, बाद में रुखा खाई ।
हो रविकर असमर्थ,  दबा दें बेटे मन्या *। 
  सही उपेक्षा रोज, दवा दे वो ही कन्या । 
मन्या =गर्दन के पीछे की शिरा 

सात्विक-जिद से आसमाँ, झुक जाते भगवान् ।
पीर पराई बाँट के, धन्य होय इंसान ।
धन्य होय इंसान, मिलें दुर्गम पथ अक्सर ।
 हों पूरे अरमान, कोशिशें कर ले बेहतर ।
बाँट एक मुस्कान, मिले तब शान्ति आत्मिक ।
दीदी धन्य विचार, यही तो शुद्ध सात्विक ।।  

भगवान् राम की सहोदरा (बहन) : भगवती शांता परम

Om

सोरठा  
  वन्दऊँ श्री गणेश, गणनायक हे एकदंत |
जय-जय जय विघ्नेश, पूर्ण कथा कर पावनी ||1||
http://2.bp.blogspot.com/_OCu_uIvUaLs/TUe7KnZeMlI/AAAAAAAAFO0/tkFtiEC1-zE/s1600/shree-ganesh.jpg

दिन प्रतिदिन कमजोर, जुदाई कैसे सहिये -

परदेशी पुत्र से-
दो वर्षों में एक ही, मुलाकात जब होय ।
बीस बरस में जोड़िये, दिल कितना ले रोय ।
 दिल कितना ले रोय, उमर बावन की मेरी ।
जाने को तैयार, अधिकतम इतनी देरी ।
नियमित करिए फोन, बात कुछ करते रहिये ।
दिन प्रतिदिन कमजोर, जुदाई कैसे सहिये ??

7 comments:

  1. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  2. वाह: बहुत खूब..

    ReplyDelete
  3. मुझे शामिल करने के लिए आभार आप का..

    ReplyDelete
  4. वाह क्या कहने...
    बहुत बढ़िया टिपियाया है आपने सबको!

    ReplyDelete
  5. अच्छे लिंक्स
    मुझे स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  6. राजनीति में आ गए, पद मद में जब चूर |
    निश्चय कटु-आलोचना, पद प्रहार भरपूर |
    पद प्रहार भरपूर, बहू भी सास बनेगी |
    देवर का कुल दूर, अकेली आस बनेगी |
    पूजे कोई रोज, मगर शिक्षा न देवे |
    सत्ता में सामर्थ्य, देश की नैया खेवे ||

    शुक्रिया भाई साहब !

    ReplyDelete