Follow by Email

Thursday, 4 October 2012

कैसे सहे विछोह, आत्मा यह निर्मोही-




...आंसू आ गए होंगे

रश्मि 

यूँ ही जाते लड़खड़ा, कदम चले जो दूर ।
कहते क्यूँ यह हड़बड़ा, आखिर क्यूँ मजबूर ।
आखिर क्यूँ मजबूर, हकीकत तुम भी जानो ।
गम उसको भरपूर, बात मानो ना मानो ।
कैसे सहे विछोह, आत्मा यह निर्मोही ।
समझ हृदय की पीर, करो ना बातें यूँ  ही ।।


"संगीत बदल जाते हैं" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')



बदले गीत-अगीत सब, बदल जाय संगीत ।
इक रचना बदले नहीं, भाव शून्य कुल रीत ।
भाव शून्य कुल रीत, खखोरे रचना रविकर
बदतमीज है चीज, सकल दुनिया से हटकर ।
हो बढ़िया श्रृंगार, बना दे वह वीभत्सी ।
सीढ़ी खुद को कहे, लोकप्रियता ले सस्ती  ।।



ओह!! तो ये बात है!??

 
कोयल मंत्री का मिले, अब इनको पदभार ।
बड़े घुटाले हैं किये, इन पर ही एतबार ।
इन पर ही एतबार, नया नव दिन ही रहता ।
भूल गए यह बात, पुराना सब दिन कहता ।
लेकिन मंत्री तेज, कोयला दूधे धोयल ।
बीबी मइके  भेज, ढूँढ़ता नइकी  कोयल ।।

पकौडी़

  उल्लूक टाईम्स
रोज जलेबी खा रहा, हो जाता मधुमेह |
इसीलिए दिखला रहा, आज पकौड़ी नेह |
आज पकौड़ी नेह, खूब चटकारे मारे |
लेता जम के खाय, रात बार बड़ा डकारे |
सके न चूरन फांक, जगह जो पूरी फुल है |
बैठा जाके शाख, यही तो इसका हल है ||

10 comments:

  1. वाह रविकर सर उम्दा दोहे रचे हैं बहुत-२ बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    मनमोहक हैं सभी कुण्डलियाँ रविकर जी!

    ReplyDelete


  3. ओह!! तो ये बात है!??
    Cartoon, Hindi Cartoon, Indian Cartoon, Cartoon on Indian Politcs: BAMULAHIJA

    कोयल मंत्री का मिले, अब इनको पदभार ।
    बड़े घुटाले हैं किये, इन पर ही एतबार ।
    इन पर ही एतबार, नया नव दिन ही रहता ।
    भूल गए यह बात, पुराना सब दिन कहता ।
    लेकिन मंत्री तेज, कोयला दूधे धोयल ।
    बीबी मइके भेज, ढूँढ़ता नइकी कोयल ।।
    फेसबुक पे हो रहा परकासी श्रीमान ,
    लोगों नित प्रति बढ़ रही प्रजातंत्र की सान(शान )

    ReplyDelete
  4. एक से बढ़कर एक !

    ReplyDelete
  5. भाई साहब जो लोग व्यंजना और तंज से परिचित नहीं हैं वह यही कहेंगे जो श्रीप्रकाश जी जायसवाल ने कहा है वरना यह भी कह सकते थे -

    तू मैं ,(शादी से पहले )

    तूमैं ,(हो गई शादी )
    तू तू में में (शादी के बाद ).

    यानी स्वीट डिश कुछ ही दिन अच्छी लगती है शादी की फिर वही खटपट....

    ReplyDelete
  6. दोहे /कुंडलियों में अपनी टिप्पणी करने में आपकी विशेषज्ञता प्रभावित करती है !

    ReplyDelete
  7. दोहों और कुंडलियों में प्रतिक्रियाएं देने में आपका कोई सानी नहीं है बहुत बढ़िया प्रस्तुति हार्दिक आभार मेरी रचना पर अभिव्यक्ति देने के लिए

    ReplyDelete
  8. स्वादिष्ट लिंक्स
    बढिया

    ReplyDelete

  9. मेरे नए ब्लाग TV स्टेशन पर देखिए नया लेख
    http://tvstationlive.blogspot.in/2012/10/blog-post.html

    ReplyDelete