Follow by Email

Tuesday, 5 February 2013

बैंड बजा देगी खबर, असर प्रभावी होय -






 पाता गुरु-गृह में सदा, दूजा जन्म मनुष्य |
देते विद्या बुद्धि बल, गुरुवर के गुरु *तुष्य |
गुरुवर के गुरु *तुष्य , बदल देते तिथि वासर |
पाकर नव उपहार, हार ना होती रविकर |
गुरुजन का वह स्नेह, सदा ही राह दिखाता |
कच्चा घट पक जाय, सही आकृति तब पाता ||
*शंकर 



SM 

बैंड बजा देगी खबर, असर प्रभावी होय |
नई पीढ़ियाँ तोड़ के, देंगी धर्म बिलोय |

देंगी धर्म बिलोय , अगर ऐसा ही होता |
आजादी ले छीन, पुरानी पद्धति ढोता |

करिए क्रमिक सुधार, राय अपनी दे जाओ |
लेकिन हरगिज नहीं, जोर अपना अजमाओ |




  Aruna Kapoor  


 विधिना लिखकर सो गए, अपने अतुल विधान |
सरेआम अदना अकल, डाले नए निशान |
डाले नए निशान, शान से कविता रचते |
उद्वेलित हो हृदय, तहलके जमके मचते |
स्वान्त: लिखूं सुखाय, जानता रविकर इतना |
पुरस्कार जो पाय, आय हमको वह विधि- ना ||


रविकर गुजरा माह, आज बोला "तो-गरिया"-

बढ़िया था ना  बोलता, अपनी चुप्पी तोड़ ।
ओ-वेशी ही कर रहा, बेमतलब की होड़ ।

बेमतलब की होड़, नहीं अब यूँ बहकाना ।
माना वह है मूर्ख, तुम्हें भी कहे जमाना ।

रविकर गुजरा माह, आज बोला "तो-गरिया" ।
रहा देखता राह, किन्तु चुप्पी थी बढ़िया ।।
  पुरानी -कुण्डली
ओ-वेशी मत बकबका, मुहाजिरों को देख |
सर्वाइव कैसे करें, शिया मियां कुल शेख |

शिया मियां कुल शेख, पाक की हालत बदतर |
इत मुस्लिम खुशहाल, किसी से हैं क्या कमतर

विश्लेषण अनुसार, हिन्दु है बड़ा हितैषी  |
बाप चुके थे बाट, बाट मत अब ओ बेशी ||

हास्य-व्यंग्य दोहे

Ambarish Srivastava 

बेल बेल के पत्र से, शिव की पूजा होय |
बेलन से पति-*पारवत, पारवती दे धोय ||

पारवत=कबूतर

ये ख्याल अच्छा है !

पी.सी.गोदियाल "परचेत" 

बड़े तराशे शब्द हैं, सुन्दर भाव तलाश |
जब पलाश खिलते मिलें, हो बसंत उल्लास ||

6 comments:

  1. आदरणीय गुरुदेव श्री बेहद सुन्दर कुण्डलिया रची हैं सादर बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन लिंक्‍स का संयोजन किया है आपने ...
    आभार

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिनक्स ...........

    ReplyDelete
  4. आप ही शब्दों में कहूँगा रविकर जी!
    बड़े तराशे शब्द हैं, सुन्दर भाव तलाश |
    जब पलाश खिलते मिलें, हो बसंत उल्लास ||
    --
    बहुत सुन्दर टिप्पणियाँ!
    आभार!

    ReplyDelete

  5. बैंड बजा देगी खबर, असर प्रभावी होय |
    नई पीढ़ियाँ तोड़ के, देंगी धर्म बिलोय |

    देंगी धर्म बिलोय , अगर ऐसा ही होता |
    आजादी ले छीन, पुरानी पद्धति ढोता |

    करिए क्रमिक सुधार, राय अपनी दे जाओ |
    लेकिन हरगिज नहीं, जोर अपना अजमाओ |

    बहुत सुन्दर है .

    ReplyDelete
  6. बैंड बजा देगी खबर, असर प्रभावी होय |
    नई पीढ़ियाँ तोड़ के, देंगी धर्म बिलोय |

    देंगी धर्म बिलोय , अगर ऐसा ही होता |
    आजादी ले छीन, पुरानी पद्धति ढोता |

    करिए क्रमिक सुधार, राय अपनी दे जाओ |
    लेकिन हरगिज नहीं, जोर अपना अजमाओ |

    Is J&K a part of Indai i.e Bharat ?Where is Congress Prince on this issue who combines and integrates the youth .

    ReplyDelete