Follow by Email

Saturday, 5 January 2013

ज्यों ज्यों जूझूँ गाँठ से, त्यों त्यों उलझे डोर -



"धूप ज़रा मुझ तक आने दो" (चर्चा मंच-१११६)

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) 

सुन्दर चर्चा-मंच का, गुरुवर श्री गणेश |
अति उपयोगी लिंक से, जागृति होता देश |
जागृति होता देश, केश अब फास्ट ट्रैक पर |
दे सटीक सन्देश, देह का करिए आदर |
शाश्वत नैतिक मूल्य, सीख उच्छ्रिन्खल भोगी |
फांसी का कानून, अन्यथा अति उपयोगी ||


फुर्सत

रचना दीक्षित 

 कृष्णा की डोरी जटिल, बाँध गया मन मोर ।
ज्यों ज्यों जूझूँ गाँठ से, त्यों त्यों उलझे डोर ।।

दूध की धुली नारियाँ -

सच्चित-सचिन  

लज्जा की प्रतिमूर्ति को, मिला नपुंसक नाथ |
काम वासना के लिए, क्यूँ ढूँढे नहिं पाथ ?

क्यूँ ढूँढे नहिं पाथ, उसे भी ज्वर चढ़ता है |
जो भी हत्थे चढ़े, सहारा बन बढ़ता है |

माने रविकर पक्ष, बिगाड़े पर क्या काकी ?
फ़ोकट में दे पाठ, बात समझो लज्जा की ||

Dr (Miss) Sharad Singh 
लक्ष्मण रेखा खींच के, जाय बहाना पाय ।
खून बहाना लूटना, दे मरजाद मिटाय ।
दे मरजाद मिटाय, सदी इक्कीस आ गई ।
किन्तु सोच उन्नीस, बढ़ी है नीच अधमई ।
पुरुषों के कुविचार, जले पर केवल रावण।
 रेखा चलूं नकार, पुरुष भव खींचा, लक्ष्मण ।

"रोज-रोज ही गीत नया है गाना" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) 
गा गा कर जिंदगी बिताना |
फिर भी दुनिया मारे ताना |
अश्रु बहाना तन तड़पाना-
सम्मुख आये, करे बहाना ||



12 comments:

  1. बढिया दिल्लगी सर

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति है .

    उनको बताना है ,

    रोज़ यहाँ आना है .

    ReplyDelete
  3. डॉ साहब बहुत बढ़िया कही है यह शहर के साथ संवाद है शहर का परिचय पत्र हाई आधार कार्ड है .सुमधुर तराना है यह गीत ,बदलाव का फसाना है .


    गंगा-गइया-मइया,
    सबको हमने है बिसराया.
    दूध-दही के बदले में,
    मदिरा का प्याला भाया,
    दाल-सब्जियाँ भूल, मांस को
    शुरू कर दिया खाना।
    नूतन के स्वागत-वन्दन में,
    डूबा नया जमाना।।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया सेतु समायोजन एवं प्रस्तुति .हाँ पूरे वजन के साथ कहता हूँ यह बात :संविधान की प्रस्तावना का पहला वाक्य ही गलत है मिथ है यथार्थ नहीं .

    मिथ :इंडिया डेट इज भारत

    यथार्थ :इंडिया इज इंडिया ,भारत इज भारत

    इंडिया एक विकसित स्टेट है भारत विकास शील बनाना स्टेट है .


    SATURDAY, 5 JANUARY 2013

    ज्यों ज्यों जूझूँ गाँठ से, त्यों त्यों उलझे डोर -


    "धूप ज़रा मुझ तक आने दो" (चर्चा मंच-१११६)
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)
    चर्चामंच -


    सुन्दर चर्चा-मंच का, गुरुवर श्री गणेश |
    अति उपयोगी लिंक से, जागृति होता देश |
    जागृति होता देश, केश अब फास्ट ट्रैक पर |
    दे सटीक सन्देश, देह का करिए आदर |
    शाश्वत नैतिक मूल्य, सीख उच्छ्रिन्खल भोगी |
    फांसी का कानून, अन्यथा अति उपयोगी ||

    ReplyDelete
  5. डॉ साहब बहुत बढ़िया कही है यह शहर के साथ संवाद है शहर का परिचय पत्र हाई आधार कार्ड है .सुमधुर तराना है यह गीत ,बदलाव का फसाना है .


    गंगा-गइया-मइया,
    सबको हमने है बिसराया.
    दूध-दही के बदले में,
    मदिरा का प्याला भाया,
    दाल-सब्जियाँ भूल, मांस को
    शुरू कर दिया खाना।
    नूतन के स्वागत-वन्दन में,
    डूबा नया जमाना।।

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया सेतु समायोजन एवं प्रस्तुति .हाँ पूरे वजन के साथ कहता हूँ यह बात :संविधान की प्रस्तावना का पहला वाक्य ही गलत है मिथ है यथार्थ नहीं .

    मिथ :इंडिया डेट इज भारत

    यथार्थ :इंडिया इज इंडिया ,भारत इज भारत

    इंडिया एक विकसित स्टेट है भारत विकास शील बनाना स्टेट है .

    ReplyDelete
  7. टिप्पणियाँ बहुत सटीक की हैं आपने!
    आभार!

    ReplyDelete
  8. उम्दा रचनाओं पर उम्दा टिप्पणियाँ |

    ReplyDelete