Follow by Email

Monday, 28 January 2013

नहीं करे एतबार, बड़ी चालाक प्रियतमा-

.इस देश की जनता उनके उत्तर की प्रतीक्षा में है.

Virendra Kumar Sharma 
दिग्गी तो दरअसल है, सत्ता-शत्रु विषाणु ।
कांग्रेस से है चिढ़ा, पटके बम परमाणु ।
पटके बम परमाणु, मिटाना हरदम चाहे ।
राज-पुत्र दोगला, भूत-भटके चौराहे ।
राहुल का यह कोच, टिप्पणी  करता भद्दी ।
पावर से है दूर, मिली कबसे नहिं गद्दी ।।

नारा ढीला हो गया, निन्यानवे बटेर  |
पहुँचायें सत्ता सही, चाहे देर सवेर |

चाहे देर सवेर, गरीबी रेखा वालों |
फँसता मध्यम वर्ग, साथ अब इन्हें बुला लो  |

मँहगाई की मार, टैक्स ने भी संहारा |
लाल-कार्ड बनवाय, लगायें हम भी नारा |

मुखौटा

Johny Samajhdar 
करे चिरौरी रात-दिन, गिन गिन सौ सौ बार ।
लेकिन कवि के झूठ पर, नहीं करे एतबार ।
नहीं करे एतबार, बड़ी चालाक प्रियतमा ।
पर मानूँ क्यूँ हार, बड़ा जिद्दी है बलमा ।
करूँ फैसला आज, मंगाऊँ मौरा-मौरी ।
होंगे मंगल काज, करूँ ना और चिरौरी ।। 


अंडे से बढ़ता नहीं, दिल दिमाग का दर्द |

डंडे से बस में रहे, पर्दा बर्दा मर्द |

पर्दा बर्दा मर्द, लीक से नहीं भागता |

करे बयानी फर्द, होश में रहे जागता |

रविकर हो भयभीत, पास आता जो सन्डे |

दिवस करूँ व्यतीत, देखते डंडे अंडे ||


पी.सी.गोदियाल "परचेत" 

रहे रिपु-दमन हैं विछा, पलक-पाँवड़े आज |
माँगे नोबुल शान्ति का, अपना सेक्युलर राज |
अपना सेक्युलर राज, लाज ना आती इस को |
उस दुश्मन पर नाज, सजा देनी है जिस को |
दिग्गी-शिंदे साब, वहाँ इज्जत फरमाते |
राज-पाट उपभोग, अभय उनसे पा जाते ||


दीपक की बातें 

भुट्टो को फाँसी मिली, बेनजीर का क़त्ल |

ख्वाहिश तेरी गर दिली, नहीं लगाओ अक्ल |

नहीं लगाओ अक्ल, शक्ल के बड़े पुजारी |

जाय बसों तुम पाक, भरे हैं वहाँ फरारी |

कुछ दिन लोगे झेल, किन्तु जब समझो पूरा |

आ जाना इस देश, काम मत छोड़ अधूरा ||

चढ़े वासना ज्वार, फटाफट हो जा फारिग

दामि‍नी.....नहीं मि‍लेगा तुम्‍हें न्‍याय


रश्मि शर्मा 

बालिग़ जब तक हो नहीं, चन्दा-तारे तोड़ ।
मनचाहा कर कृत्य कुल, बाहें रोज मरोड़ ।
बाहें रोज मरोड़, मार काजी को जूता ।
अब बाहर भी मूत, मोहल्ले-घर में मूता ।
चढ़े वासना ज्वार, फटाफट हो जा फारिग ।
फिर चाहे तो मार, अभी तो तू नाबालिग ।।
 "आने वाला है बसन्त" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) 
कुंहरा छटने में अभी, दिखता लंबा वक्त |
हम में से हर एक को, लेना निर्णय शख्त |
लेना निर्णय शख्त, हवा बदलाव बहायें |
सदाचार सदनीति, प्रेम-आदर्श निभायें |
पर सत्ता कमबख्त, लगा बैठी है पहरा |
तन मन दें धन-रक्त, छ्टे तब गुरुवर कुंहरा |


महेन्द्र श्रीवास्तव


पद्म-मीनिया भी गजब, लगते देखी रेस ।

कहीं हर्ष तो दुःख कहीं, कहीं गजब की ठेस ।

कहीं गजब की ठेस, कहीं जूतियाँ घिसाती ।

बेचारा यह देश, नहीं वह हस्ती पाती ।

आया पहला दौर, लगा जो शतक कीनिया ।

पद्म विभूषण पाय, मिटाते पद्म  मीनिया।।


ब्रिटिश सांसद भी कहे, पहरावे में दोष ।
आधी आबादी सहे, कारण यह ही ठोस ।
कारण यह ही ठोस, रोष मत करना नारी ।
सैंडिल ऊंची छोड़, करो फिर से तैयारी ।
कोई हाथ लगाय, उठा जूतियाँ फटाफट ।
तुरत नाक-मुंह थूर, गिने बिन मार सटासट  ।। 

 पैंट-शर्ट में पुरुष के, हमें दीखता दोष ।
अंत: वस्त्रों में दिखे, ज्यादा जोश खरोश ।
ज्यादा जोश खरोश, पहन अब वही जाँघिया ।
धोती-कुरता झाड, पजामा बनी धारियां ।
सात्विक भोजन होय, मूक फ़िल्में भी त्यागो ।
बदलो अपने ढंग, गोलियां यूँ मत दागो ।।

5 comments:

  1. बेचारा यह देश, नहीं वह हस्ती पाती ,,,,वाह वाह ,,,,क्या खूब लिखा है ,,,,

    ReplyDelete
  2. बढ़िया टिप्पणियाँ!
    अभी तो शाम दूर है!
    तह तक और भी आ जायेगी यहाँ!

    ReplyDelete
  3. बालिग़ जब तक हो नहीं, चन्दा-तारे तोड़ ।
    मनचाहा कर कृत्य कुल, बाहें रोज मरोड़ ....और जुड़ गई कुछ बातें...आभार आपका। सारे लिंक्‍स बेहतरीन हैं।

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (30-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete